कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, 1 अगस्त से मिलेगा लाभ, मंत्रालय ने जारी किया आदेश

लीगेसी डेटा दर्ज करते समय उचित सावधानी बरती जा सकती है और पूरी प्रक्रिया 25.07.2022 तक पूरी की जा सकती है।

government employee news
demo pic

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। रेलवे ने अपने कर्मचारियों (Railway Employees) के लिए महत्वपूर्ण सूचना जारी की है। रेलवे मंत्रालय (Railway Ministry) द्वारा जारी आदेश के मुताबिक HRMS के ट्रांसफर मॉड्यूल (HRMS Transfer Module) का कार्य पूरा कर लिया गया। वहीं 1 अगस्त 2022 से इसकी लॉन्चिंग की जाएगी। मंत्रालय ने इसकी तैयारी कर ली है। वहीं इसका परीक्षण पूर्वी और दक्षिणी रेलवे में किया जा चुका है। डिजिटलाइजेशन के तहत HRMS के जरिए ट्रांसफर लागू होने से लाखों रेलवे कर्मचारियों को इसका लाभ मिलेगा।

HRMS के ट्रांसफर मॉड्यूल का कार्य पूरा कर लिया गया है और इसका परीक्षण पूर्वी/दक्षिणी रेलवे में भी किया गया है। मॉड्यूल के लॉन्च की संभावित तिथि 01.08.2022 है। इस संबंध में, यह निर्णय लिया गया कि स्थानांतरण मॉड्यूल के उपयोग पर प्रशिक्षण सत्र 15.07.2022 अनुबंध-क के रूप में संलग्न अनुसूची के अनुसार शुरू हो गया है। रेलवे इस प्रशिक्षण सत्र को शुरू करने के लिए उन अधिकारियों को नामित कर सकता है जो स्थानांतरण से संबंधित मॉड्यूल को संभाल रहे हैं।

Read More : Relationship Tips : इस तरह दें अपने पार्टनर को सरप्राइज, छोटी छोटी बातों से मजबूत होगा रिश्ता

मॉड्यूल के लॉन्च से पहले, इंटर रेलवे/इंटर डिवीजन ट्रांसफर के संबंध में लीगेसी डेटा को HRMS के ट्रांसफर मॉड्यूल में दर्ज करना आवश्यक है। ट्रांसफर मॉड्यूल में लीगेसी डेटा दर्ज करने की प्रक्रिया और उपयोगकर्ता मैनुअल इसके साथ अनुलग्नक-बी के रूप में संलग्न है। स्थानांतरण मॉड्यूल की निरंतरता और सफलता को बनाए रखने के लिए विरासत डेटा की प्रविष्टि बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि 01.08.2022 से, स्थानांतरण की पूरी प्रक्रिया केवल एचआरएमएस के माध्यम से संचालित की जाएगी। इस प्रकार लीगेसी डेटा दर्ज करते समय उचित सावधानी बरती जा सकती है और पूरी प्रक्रिया 25.07.2022 तक पूरी की जा सकती है।

यह भी सुनिश्चित किया जाए कि सभी मौजूदा मामले दर्ज किए जाएं चाहे उन्हें स्वीकार किया गया हो या नहीं, क्योंकि भविष्य में, कर्मचारी सीधे ऑनलाइन पंजीकरण कर सकेंगे। डेटा अपलोडिंग के दौरान उनके नाम छूट जाने के कारण मौजूदा आवेदकों को कोई नुकसान नहीं होगा। वहीं विभाग को निर्देश देते हुए आदेश जारी किया है कि सभी फील्ड प्राथमिकता से सूची को तैयार करें और w.r.t. आईआरटी और आईडीटी के तहत अलग-अलग सूचियां और एकीकृत सूची तैयार करें। वही कार्रवाई 20 जुलाई 2022 तक पूरी की जा सकती है।

भारतीय रेलवे ने पूरी तरह से डिजिटलीकृत ऑनलाइन मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली (HRMS) शुरू की है। मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली (HRMS) भारतीय रेलवे के लिए बेहतर उत्पादकता और कर्मचारी संतुष्टि का लाभ उठाने के लिए एक उच्च जोर वाली परियोजना है। वहीँ भारतीय रेलवे में एचआरएमएस के स्थानांतरण मॉड्यूल का कार्यान्वयन तैयार किया जा रहा है। वहीँ इसकी टेंटेटिव लॉन्चिंग तिथि 01.08.2022 है।