CG Weather : 2 दिन में मानसून की विदाई, 4 अक्टूबर से फिर बदलेगा मौसम, चक्रवाती सिस्टम होगा सक्रिय, आंधी-बारिश की चेतावनी

IMD के अनुसार 1 अक्टूबर को बंगाल की खाड़ी (BoB) में एक नए सिस्टम का निर्माण हो रहा है। जिसके दो या तीन अक्टूबर तक डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई गई है।

mp weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ में भारी बारिश (Chhattisgarh Heavy rain) का कहर दिखाने के बाद जल्द ही अब मानसून (Monsoon) की विदाई देखने को मिल सकती है। हालांकि एक बार फिर से छत्तीसगढ़ (CG Weather) में बारिश देखने को मिलेगी। दरअसल IMD के अनुसार 1 अक्टूबर को बंगाल की खाड़ी (BoB) में एक नए सिस्टम का निर्माण हो रहा है। जिसके दो या तीन अक्टूबर तक डिप्रेशन में बदलने की संभावना जताई गई है। मौसम विज्ञान की माने तो छत्तीसगढ़ में 4 अक्टूबर से एक बार फिर से बूंदाबांदी का दौर शुरू होगा। इस दौरान कई जिलों में बारिश देखने को मिलेगी।

वही आईएमडी ने विदाई से पहले मौसम में बदलाव की उम्मीद जताई है। राजधानी में तेज गरज चमक के साथ आंधी की चेतावनी जारी की गई है। वहीं मौसम विभाग ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है। छत्तीसगढ़ में अक्टूबर के पहले सप्ताह से ही हल्की ठंड की दस्तक भी शुरू हो जाएगी। प्रदेश में एक बार फिर से बारिश की संभावना बनती नजर आ रही है।

Read More : EOW का एक्शन, बिजली कंपनी का इंजीनियर 50,000 रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार

मौसम विभाग के मुताबिक छत्तीसगढ़ के 7 जिलों में आज बौछार पड़ने का अलर्ट जारी किया गया है। मध्यम बारिश से मौसम सुहावना बना रहेगा तापमान में 3 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी। न्यूनतम तापमान 26 डिग्री तापमान आसमान में बादल छाए रहेंगे। मौसम सुहावना बना रहेगा। प्रदेश में अब तक 1250 मिलीमीटर से अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई है।

वहीं छत्तीसगढ़ के लिए एक्टिव सिस्टम की बात करें तो फिलहाल छत्तीसगढ़ में द्रोणिका का प्रभाव देखने को मिल रहा है। थोड़ी बहुत बारिश से मौसम सुहावना बना रहेगा। मौसम विभाग ने स्पष्ट किया है कि दक्षिणी पश्चिमी मानसून की विदाई की प्रक्रिया तेज हो गई है। वहीं छत्तीसगढ़ से मानसून की विदाई की शुरुआत हो चुकी है। फिलहाल एक ऊपरी हवा का चक्रवात घेरा बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास निर्मित हो रहा है। इसके समुन्द्र तल से 3.1 किलोमीटर ऊंचाई पर रहने की संभावना जताई गई है। जिसके कारण प्रदेश के 10 जिलों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिलेगी।

हालांकि निम्न दबाव का क्षेत्र निर्मित होने के साथ ही 4 अक्टूबर से एक बार फिर से मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। पर्वतीय राज्यों में बर्फबारी शुरू होने का प्रभाव भी छत्तीसगढ़ में जल्द दिखेगा। ठंडी हवाएं चलेगी। रात के तापमान में 5% की गिरावट रिकॉर्ड की जा सकती है।

वही मानसून द्रोणिका और अचानक निर्मित होने कई सिस्टम का प्रभाव प्रदेश के कई जिलों में देखने को मिलेगा। दरअसल मौसम विभाग द्वारा कुछ स्थानों पर गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास के क्षेत्र से आ रही थी पर हवा की वजह से प्रदेश में भारी आंधी की चेतावनी जारी की है। लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है।

रायपुर में मौसम सामान्य बना रहेगा। कुछ क्षेत्रों में धूप निकलने की भी संभावना जताई गई है। वही 1 जून से 26 सितंबर के बीच प्रदेश में 1250 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है, जो सामान्य से 10% अधिक है। प्रदेश के 1 जिले में अति भारी बारिश, 9 में अधिक बारिश और 13 में सामान्य जबकि 4 में कम बारिश रिकॉर्ड की गई है।