CG Weather : आज से बदलेगा मौसम, शुरू होगा बारिश का दौर, मानसून सहित 3 सिस्टम एक्टिव, 16 जिलों में मध्यम-तेज बारिश का अलर्ट

आज गुरुवार को प्रदेश में मध्यम बारिश की चेतावनी जारी की गई। इसके अलावा गरज चमक की संभावना भी जताई गई है।

cg weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में लगातार निम्न दबाव (low pressure) सहित मानसून (monsoon) का असर नजर आ रहा है। मंगलवार को हल्की धूप निकलने के बाद बुधवार को भी प्रदेश के कुछ हिस्सों में धूप खिली नजर आई। हालांकि छत्तीसगढ़ में एक बार फिर से मौसम (CG weather change) बदलने वाला है। गुरुवार 18 अगस्त यानी आज से दो नए सिस्टम एक्टिव होने की वजह से प्रदेश में झमाझम बारिश के दौर शुरू हो जाएंगे। विभाग की मानें तो 18 अगस्त को दुर्ग के अलावा बस्तर और रायपुर संभाग के कई जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है। इसके लिए येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

इसके अलावा मौसम विभाग ने कई जिलों में उम्र की चेतावनी जारी की है। दिन में तेज धूप निकलने से उमस के कारण लोग परेशान है। हालांकि आज 16 जिलों में हल्की बारिश की संभावना जताई गई है जबकि कई जिलों में भारी बारिश का यलो और ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है। बुधवार को राजधानी रायपुर के तापमान में 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि देखने को मिली थी। हालांकि मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव के क्षेत्र निर्मित हुए हैं।जिसका प्रभाव पड़ेगा और शुक्रवार से लगातार बारिश का दौर शुरू हो जाएगा।

Read More : Gold Silver Rate : चांदी की कीमत में बड़ी गिरावट, नहीं बदले सोने के भाव

आज गुरुवार को प्रदेश में मध्यम बारिश की चेतावनी जारी की गई। इसके अलावा गरज चमक की संभावना भी जताई गई है। रायपुर में अधिकतम तापमान 33 डिग्री व न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम वैज्ञानिक की मानें तो मानसून धोनी का के प्रभाव के कारण उत्तर बंगाल की खाड़ी के ऊपर शुक्रवार तक एक निम्न दाब का क्षेत्र निर्मित होगा।

प्रदेश में वर्षा की स्थिति की बात की जाए तो 1 जून से 16 अगस्त तक प्रदेश में 930 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है, जो सामान्य की तुलना में 20% अधिक है। प्रदेश के 2 जिलों में 15% से ज्यादा बारिश देखने को मिली है जबकि 5 में बहुत कम बारिश हुई है। बीजापुर में सर्वाधिक बारिश-सरगुजा में सबसे कम बारिश रिकॉर्ड किया गया है।

मौसम विभाग की माने तो मानसून ध्वनि का मध्य समुद्र तल पर जैसलमेर और पश्चिम मध्य प्रदेश, दमोह, अंबिकापुर और पूर्व बंगाल की खाड़ी तक स्थित है। जिसका असर दक्षिणी और मध्य भारत में देखने को मिल रहा है। 18 अगस्त को एक निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर बंगाल की खाड़ी में बनने की संभावना है। गुरुवार से प्रदेश में बारिश की गतिविधियां एक बार फिर से संचालित होगी और 19 अगस्त तक छत्तीसगढ़ में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

इस दौरान पूर्व और मध्य छत्तीसगढ़ में भारी क्षति भारी बारिश की संभावना जताई गई है। 3 दिन पूर्व तक हुई लगातार बारिश से नदी नाले उफान पर आ गए हैं। जिसके लिए राज्य शासन ने प्रशासन को अलर्ट मोड पर कार्य करने की सलाह दी। जिला प्रशासन निरंतर नजर बनाए हुए हैं। वहीं एडीआरएफ टीम को अलर्ट पर रखा गया है।

होमगार्ड जवानों की मुस्तैदी की गई है 25 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। इसके अलावा राहत और बचाव कार्य अभी जारी है। आम नागरिक आपात स्थिति में सूचना दे सके। इसके लिए मोबाइल नंबर जारी किया गया है। कंट्रोल रूम हेल्पलाइन नंबर 78172 22032 और 94241 64556 पर आम नागरिक आपात स्थिति की सूचना दे सकते हैं।