Congress उपाध्यक्ष ने पद से दिया इस्तीफा, सोशल मीडिया पर फोटो Viral होने के बड़ा उठाया कदम

Congress vice president ने कहा कि मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। लेकिन मैंने कांग्रेस पार्टी नहीं छोड़ी है।

MP News

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश भर में कांग्रेस (congress) की हालत भी खस्ताहाल है। राज्य में कांग्रेस के अंदर अंदरूनी विवाद की स्थिति देखने को मिल रही है। इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष के इस्तीफा देने के तुरंत बाद अब कांग्रेस उपाध्यक्ष (congress vice president) ने भी अपने पद से इस्तीफा (resign) दे दिया है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने अपना इस्तीफा व्हाट्सएप (whatsapp) के जरिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपा है। जिसके बाद एक बार फिर से कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है।

त्रिपुरा कांग्रेस के अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास के अपनी पार्टी के सहयोगियों से कथित सहयोग की कमी के कारण इस्तीफा देने के कुछ दिनों बाद अब उपाध्यक्ष तापस डे (tapas dey) ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि वह अभी भी पार्टी के साथ हैं। पिछले हफ्ते अपना इस्तीफा वापस लेने वाले बिस्वास (piyush kanti vishvas) ने कहा कि उन्हें अभी तक डे का इस्तीफा नहीं मिला है। हालांकि, डे ने दावा किया कि उन्होंने अपना इस्तीफा व्हाट्सएप के जरिए भेजा है। Congress vice president ने कहा कि मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। लेकिन मैंने कांग्रेस पार्टी नहीं छोड़ी है।

Read More: Shivpuri : वैक्सीनेशन सेंटर पर शराबियों का हंगामा, की तोड़फोड़, स्वास्थ्य विभाग ने नहीं की शिकायत

डे का इस्तीफा केंद्रीय सामाजिक अधिकारिता राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक के साथ उनकी तस्वीर के सोशल मीडिया पर वायरल होने के तुरंत बाद आया है। डे ने बुधवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य और पूर्व मंत्री बिभु कुमारी देवी के साथ बैठक करने पहुंचे थे, इस दौरान मंत्री प्रतिमा भौमिक से उनकी मुलाकात हुई। बिभु देवी त्रिपुरा के माणिक्य वंश की ‘राजमाता’ या ‘राजमाता रानी’ भी हैं।

बिस्वास को संबोधित अपने इस्तीफे में डे ने कहा कि तस्वीर को संदर्भ से बाहर देखा गया क्योंकि वह केवल बिभु देवी से मिलने जा रहे थे और केंद्रीय मंत्री वहां पहले से मौजूद थीं। यह एक संयोग था कि केंद्रीय मंत्री महोदया प्रतिमा भौमिक अचानक ‘राजमाता’ को से मिलने के लिए वहां पहुंचीं और हमने सिर्फ खुशियों का आदान-प्रदान किया और हमारे राज्य के लोगों की कुछ विकास परियोजनाओं पर चर्चा हुई। इसके अलावा राजनितिक स्तर पर और कोई बात नहीं हुई थी।