कर्मचारियों को मिला बड़ा तोहफा, मानदेय में वृद्धि, 2500 से 3000 रूपए तक बढ़कर आएंगे वेतन

मल्टी परपस वर्कर और मल्टीटास्क वर्कर के मानदेय में वृद्धि की गई है।

employees news

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट। एक बार फिर से आउट सोर्स संविदा कर्मचारी (Outsoource contractual employees) के मानदेय में वृद्धि (honorarium hike) की गई है। दरअसल चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग (medical and health department) में आउटसोर्सिंग पर काम कर रहे Employees के मानदेय के पद में अलग-अलग वृद्धि की घोषणा की गई है। जिसके बाद उनके वेतन (salary) में 2500 रूपए से 3000 तक की बढ़ोतरी संभव है।

इस मामले में अपर मुख्य सचिव द्वारा मानदेय वृद्धि के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं जारी आदेश के मुताबिक विभिन्न जिलों में हर संवर्ग के लिए अधिकतम मानदेय दिया जा रहा है। इस मानदेय वृद्धि से संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारी के 50000 कर्मियों को बड़ा लाभ मिलेगा।

जारी वेतन के मुताबिक वर्ड बाय- वर्ड आया को अब ₹9184 प्रति माह का मानदेय बढ़ाकर ₹10706 कर दिया गया है। इसके अलावा चपरासी और अंजलि के मानदेय को भी ₹9184 से बढ़ाकर ₹9999 किया गया है। वही कंप्यूटर सहायक अनुदेशन कलर की के मानदेय 11,316 रुपए से बढ़ाकर 12,844 रुपए कर दिया गया है। मल्टी परपस वर्कर और मल्टीटास्क वर्कर के मानदेय में वृद्धि की गई है।

Read More : MP College : UG-PG के शैक्षणिक शुल्क पर विभाग का बड़ा फैसला, मंत्री मोहन यादव ने दी जानकारी, लाखों छात्रों को मिलेगा लाभ

दरअसल उनके मानदेय को ₹9,184 रुपए से बढ़ाकर ₹11,509 रुपए किया गया है। साथ ही खाना बनाने वाले Cook के मानदेय ₹9,184 रुपए से बढ़ाकर ₹10,706 रुपए किए गए हैं। वाहन चालक के मानदेय में वृद्धि की गई है। दरअसल उनके मानदेय 11,316 रुपए से बड़ा करे 11,779 रुपए किए गए हैं। साथ ही प्लंबर के मानदेय में वृद्धि की घोषणा की गई है उनके मानदेय ₹10,102 से बढ़ाकर ₹11,177 कर दिए गए हैं।

बता दे कि संयुक्त स्वास्थ आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारी द्वारा उच्च न्यायालय में इस मामले में याचिका दायर की गई थी। जहां उन्होंने मानदेय वृद्धि को लेकर याचिका दायर की थी। जिसके बाद हाईकोर्ट ने 11 मार्च 2022 को आदेश जारी किया था। जिसमें कहा गया था कि चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग के सभी जिले के कर्मचारियों के वेतन में एकरूपता लाई जाए। जिसके बाद अब श्रम विभाग में निर्धारित मानदेय से अधिक मानदेय देने का फैसला किया है।