Diamond League 2022 : नीरज चोपड़ा के नाम बड़ी उपलब्धि, 88.44 मीटर के बेस्ट थ्रो के साथ बने डायमंड लीग फाइनल जीतने वाले पहले भारतीय

डायमंड लीग फाइनल में नीरज चोपड़ा ने 88.44 मीटर के बेस्ट थ्रो के साथ लीग का खिताब अपने नाम किया है।

खेल, डेस्क रिपोर्ट। दिग्गज ओलंपियन (Olympian) और जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा (Javelin Thrower Neeraj Chopra) ने एक बार फिर से अपनी शानदार प्रदर्शन से विश्व पटल पर भारत का नाम रोशन किया है। दरअसल नीरज चोपड़ा डायमंड लीग फाइनल (Diamond League Final Trophy) जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने इतिहास रच दिया है। डायमंड लीग फाइनल में नीरज चोपड़ा ने 88.44 मीटर के बेस्ट थ्रो के साथ लीग का खिताब अपने नाम किया है।

इससे पहले 2017 और 18 में भी नीरज चोपड़ा ने डायमंड लीग के लिए क्वालीफाई किया था लेकिन 2017 में उन्हें सातवें स्थान पर संतोष करना पड़ा था जबकि 2018 में वह चौथे स्थान पर रहे थे। हालांकि इस बार डायमंड ट्रॉफी में कामयाबी हासिल करते हुए उन्होंने चेक गणराज्य के जैकब वाडलेज और जर्मनी के जूलियन वेबर को पछाड़ दिया है।

Read More : कमलनाथ बोलें – ‘फूट डालो और राज करो’ की नीति का जवाब है राहुल की ‘भारत जोड़ो यात्रा’

हालांकि डायमंड लीग फाइनल में नीरज चोपड़ा की शुरुआत खराब रही थी और उनके पहले थ्रो फ़ाउल रहे थे जबकि दूसरे प्रयास में उन्होंने शानदार 88.44 मीटर थ्रो कर अन्य खिलाड़ियों पर अपनी बढ़त सुनिश्चित कर ली। तीसरे प्रयास में नीरज द्वारा 88 मीटर बेहतरीन रोका गया। चौथे प्रयास में नीरज चोपड़ा ने 86.11 मीटर दूर भला फेक अपनी बढ़त को और शानदार किए जबकि पांचवें प्रयास में 87 मीटर दूर भाला थ्रो करते हुए जीत के करीब पहुंच गए। छठे और अंतिम प्रयास में उन्होंने 83.60 मीटर दूर भाला थ्रो किया।

वही डायमंड लीग फाइनल ट्रॉफी में चेक गणराज्य के जैकब वॉर्डलेज अपने बेस्ट थ्रो 86.94 मीटर के साथ दूसरे स्थान पर काबिज रहे जबकि जर्मनी की जूलियन वेबर 83.73 के साथ तीसरे नंबर पर अपनी जगह बनाई है। बता दें कि इससे पहले नीरज चोपड़ा ने ओलंपिक 2021 में जैवलिन का स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। वहीं 2018 के एशियाई खेलों में भी उन्होंने गोल्ड अपने नाम किया था। 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड जीतने के साथ ही 2022 के विश्व चैंपियनशिप में सिल्वर से संतोष करना पड़ा था।

वहीं 24 वर्षीय नीरज चोपड़ा ओलंपिक चैंपियन बनने के साथ ही साथ विश्व चैंपियनशिप रजत पदक विजेता और डायमंड लीग चैंपियन भी है। 13 महीनों में उन्होंने यह सारी उपलब्धि अपने नाम की है। इससे पहले जुलाई में संयुक्त राज्य अमेरिका में विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक के दौरान उनके कमर में चोट आई थी। जिस कारण 28 जुलाई से होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों से वह चूक गए थे।