चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, 1 घंटे बढ़ेगा मतदान का समय, जाने मुख्य फैसले

मुख्य चुनाव आयुक्त के नेतृत्व में चुनाव आयोग की एक टीम ने देश के सबसे अधिक आबादी वाले और राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य का दौरा करने के बाद यह टिप्पणी की।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामले (corona cases) और नए वेरिएंट ओमीक्रोन (omicron) के बीच चुनाव आयोग (election commission) ने बड़ा फैसला लिया है। दरअसल चुनाव आयोग ने संक्रमण की रफ्तार के बीच चुनाव कराए जाने पर स्थिति साफ कर दी है। चुनाव आयोग ने कहा कि किसी भी सूरत में चुनाव नहीं टाले जाएंगे। हालांकि चुनाव मतदान के लिए 1 घंटे का समय बढ़ाया जाएगा। मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि अंतिम मतदाता सूची 5 जनवरी 2022 को जारी की जाएगी।

संक्रमण में वृद्धि को रोकने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी देते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि मतदान का समय एक घंटे बढ़ाया जाएगा। बैठक में चुनाव आयोग ने बताया कि राजनीतिक दलों द्वारा Corona Third Wave की आशंका के बीच चुनाव कराए जाने पर सहमति जताई गई है। हालांकि विधानसभा चुनाव में Corona की स्थिति को देखते हुए दिव्यांग और 80 वर्ष से ऊपर के लोगों को घर से मतदान करने की सुविधा की मांग की गई है। माना जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में दिव्यांग और 80 वर्षीय लोगों को घर से मतदान की सुविधा दी जा सकती है।

इसके अलावा चुनाव आयोग ने कुछ खास निर्णय लिए हैं। जिसके अंतर्गत चुनाव आयोग ने बताया कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए 11000 पोलिंग बूथ बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। वहीं जहां पहले 1500 लोगों की वोटिंग की व्यवस्था  हुआ करते थे। उन्हें अब सिर्फ 1200 लोगों की वोटिंग की व्यवस्था के निर्देश दिए जाएंगे। इसके अलावा महिलाओं के लिए भी वोटिंग बूथों की संख्या बढ़ेगी।

साथ ही ठंड के मौसम को देखते हुए चुनाव आयोग द्वारा मतदान के समय को बढ़ाया गया है।  मतदाता अब 1 घंटे अतिरिक्त मतदान कर सकेंगे। मतदान सुबह 8:00 बजे से शुरू होकर शाम 6:00 बजे तक जारी रहेगा। इसके अलावा राज्य में 400 मॉडल बूथ बनेंगे। हर क्षेत्र में एक आदर्श पोलिंग बूथ की सुविधा उपलब्ध होगी। इसके अलावा महिलाओं के लिए 800 पोलिंग बूथ अलग से बनाए जाएंगे।

Read More : MP Board : 12 जनवरी से शुरू होगी परीक्षा, जल्द जारी होंगे एडमिट कार्ड, संस्थाओं को मिले महत्वपूर्ण निर्देश

वोटिंग सिर्फ ईवीएम के माध्यम से की जाएगी। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों में मतदान आयोजित की जाएगी। विधानसभा चुनाव के दौरान मतदान की तारीख को मतदान सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक होगा। विस्तृत दिशानिर्देश जल्द ही जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि फ्रंटलाइन पोल कार्यकर्ताओं को पूरी तरह से टीका लगाया जाएगा।

यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं कि राज्य में सभी को Vaccine की कम से कम एक खुराक मिल जाए।मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने बताया कि सभी पार्टियों ने कहा है कि चुनाव समय पर होने चाहिए। चंद्रा ने कहा कि पार्टियों ने सुझाव दिया था कि आबादी में Corona संक्रमण के खतरे से कैसे बचाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि UP के अधिकारियों ने हमें बताया है कि 50 फीसदी आबादी को पूरी तरह से टीका लगाया गया है और राज्य में अब तक केवल चार ओमाइक्रोन मामले सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए महिलाओं के लिए 800 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के अलावा अगले साल गोवा, मणिपुर, उत्तराखंड और गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं। मुख्य चुनाव आयुक्त के नेतृत्व में चुनाव आयोग की एक टीम ने देश के सबसे अधिक आबादी वाले और राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य का दौरा करने के बाद यह टिप्पणी की हैं। इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा नए ओमाइक्रोन से प्रेरित Corona मामलों में बढ़त के बीच उत्तर प्रदेश के चुनावों को स्थगित करने का आग्रह करने के बाद चुनाव पैनल की टीम ने राज्य का दौरा किया था।