Electricity Bill: बिजली विभाग की लापरवाही, उपभोक्ता को थमाया 62 हजार रूपए का बिल

किसी भी महीने 100 यूनिट से अधिक का बिजली बिल उनतक नहीं पहुंचा है। जबकि अगस्त महीने में बिजली विभाग ने उन्हें 62000 रूपए का बिल थमा दिया है।

Electricity

कटनी, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में बिजली विभाग (Electricity department) की लापरवाही जनता के लिए चिंता का विषय बनी हुई है। आए दिन बिजली विभाग में बिजली बिल (electricity bill) को लेकर हुए ही गड़बड़ी से जनता त्रस्त है। इस बीच कटनी (katni) से एक ऐसा मामला सामने आया है। जहां 1 उपभोक्ताओं को बिजली विभाग ने 62000 का बिल थमा दिया है। हालांकि उपभोक्ता का दावा है कि हर महीने वह अपने बिजली बिल समय पर जमा करते हैं। साथ ही उनकी बिजली का खर्च प्रति महीने 100 यूनिट तक रहता है।

दरअसल मामला कटनी जिले का है। बिजली विभाग ने अपने उपभोक्ता को बड़ा झटका देते हुए उसे 62000 रुपए का बिजली बिल थमा दिया है। वही 62000 के बिजली बिल के बाद उपभोक्ता के पसीने छूट गए। वह लगातार बिजली विभाग के चक्कर काट रहा है लेकिन अधिकारियों द्वारा मामले में कोई सुनवाई नहीं की जा रही है।

Read More: कोरोना ने छीना मां-पिता का साया, बच्चे भीख मांग कर गुजारा करने को मजबूर, कलेक्टर ने की ये व्यवस्था

इस मामले में उपभोक्ता रूपचंद सोनी ने बताया कि 3 साल पहले उनका बिजली मीटर खराब हो गया था। बिजली विभाग ने उनके मीटर बदल दिए थे। तब से वह लगातार बिजली बिल (Electricity Bill) का भुगतान समय पर कर रहे हैं। किसी भी महीने 100 यूनिट से अधिक का बिजली बिल उनतक नहीं पहुंचा है। जबकि अब अगस्त महीने में बिजली विभाग ने उन्हें 62000 रूपए का बिल थमा दिया है।

वही जब उपभोक्ता ने बिजली विभाग में शिकायत की तो बिल (Electricity Bill) को घटाकर 37 हजार रूपए का कर दिया गया है। जिसके बाद कोई भी अधिकारी शिकायत सुनने को तैयार नहीं है। बिजली विभाग ने आगे की कार्रवाई में जांच के आश्वासन दिए हैं।

बता दे कि बीते दिनों बिजली विभाग के मंत्री सहित अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj singh chauhan) ने कहा था कि बिजली विभाग द्वारा लगातार हो रही गड़बड़ी को सुधारने की आवश्यकता है। इसके साथ ही नवीन पहल करते हुए इन गड़बड़ियों को तत्काल प्रभाव से निराकरण किया जाना आवश्यक है। बावजूद इसके बिजली विभाग द्वारा उपभोक्ताओं को लगातार दिए जा रहे झटके वाकई चिंता का विषय है।