Damoh : विधायक रामबाई पर FIR दर्ज, कलेक्टर को कहा था बदतमीज, ढोर और बेवकूफ, IAS एसोसिएशन नाराज, जानें मामला

IAS एसोसिएशन भी विधायक रामबाई से खासे नाराज नजर आ रहे हैं।

दमोह, डेस्क रिपोर्ट। विधायक रामबाई (MLA Rambai) अपने दबंग अंदाज और विवादित बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहती हैं। एक बार फिर से विवादित बयान को लेकर पथरिया विधायक पर एफआईआर दर्ज (FIR) किया गया है। दरअसल पथरिया विधायक रामबाई सिंह परिहार द्वारा दमोह कलेक्टर से अभद्रता करने के साथ ही कलेक्टर के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया है। जिसके बाद उन पर मामला दर्ज कराया गया है। रामबाई पर IPC की धारा 353, 294, 506 बी, 186 सहित अन्य धाराओं में FIR दर्ज किया गया है। इसके साथ ही IAS एसोसिएशन भी विधायक रामबाई से खासे नाराज नजर आ रहे हैं।

दरअसल पथरिया विधानसभा के नरसिंहगढ़ में शुक्रवार को जन समस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया था। जिसमें प्रमुख अधिकारी नहीं पहुंचे थे। महिलाओं द्वारा समस्या विधायक रामबाई को बताई गई। जिसपर विधायक सीधे कलेक्ट्रेट पहुंच गई। कलेक्ट्रेट में कलेक्टर से महिलाओं की समस्या का जिक्र करते हुए उन्होंने कार्रवाई पर सवाल किए।

Read More : बिजली उपभोक्ताओं को बड़ा झटका, फिर हुई दरों में वृद्धि, अब 200 यूनिट खपत पर चुकाने होंगे इतने रुपए, जेब पर बढ़ेगा बोझ

वही कलेक्टर द्वारा बार-बार नियम का हवाला देकर कार्रवाई की बात की गई। जिस पर विधायक रामबाई भड़क गई और आपा खोते हुए उन्होंने कलेक्टर के लिए ढोर, बेवकूफ और बदतमीज जैसे शब्दों का उपयोग किया। अपने संबोधन के दौरान विधायक रामबाई सिंह परिहार ने कलेक्टर से पूछा कि आपकी आंखें फूट गई है या आप ढोर है या आपमें 2 पैसे की अक्ल नहीं है। हालांकि कलेक्टर द्वारा महिलाओं की समस्या के समाधान का आश्वासन दिया गया है।

वही कलेक्टर पर आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करने के बाद कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य ने कहा कि विधायक द्वारा यह कारनामा पूरी प्लानिंग के तहत की गई है। उनके खिलाफ FIR दर्ज करवाया गया है। साथ ही एसपी को उन्होंने इस मामले में जानकारी दी थी। जिसके बाद अब विधायक रामबाई के खिलाफ कलेक्टर से अभद्रता के मामले में आईपीसी की धारा 353, 294, 506 बी, 186 सहित अन्य धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है।

नाराज IAS एसोसिएशन

नाराज आईएएस एसोसिएशन का कहना है कि दमोह ज़िले में आज हुई घटना का एसोसिएशन ने संज्ञान लिया है । राज्य शासन के सभी अधिकारी आम नागरिकों को सुगमता से सेवा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। नागरिकों को सेवा प्रदान करने में जनप्रतिनिधि और अधिकारियों के मध्य समन्वय भी महत्वपूर्ण है। इसमें एक दूसरे से पारस्परिक सम्मान का व्यवहार आवश्यक है। विधायक महोदया से हुए संवाद में एशोसिएशन दमोह कलेक्टर के संयम और व्यवहार की प्रशंसा करती है। विधायक महोदया का व्यवहार भी उनके पद की मर्यादा के अनुरूप होना चाहिये था । एसोसिएशन का मानना है कि, उनके द्वारा उपयोग में लाए गए अपशब्द उनके पद की मर्यादा के विपरीत तथा स्वीकार करने योग्य नहीं है ।

इस मामले में विधायक का कहना है कि कलेक्टर एसी चेंबर में बैठे रहते हैं। जनता परेशान रहती है। 15 सालों से लोगों की समस्या का समाधान नहीं हुआ है। लोगों के समाधान के लिए प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर शिविर का आयोजन किया जा रहा है लेकिन औपचारिकता के अलावा अन्य कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। जवाबदार अधिकारी मौके पर नहीं पहुंच रहे हैं। वही कलेक्टर को समस्या बताने पर बार-बार आश्वासन की बात कही जा रही है। जिसके कारण उन्हें गुस्सा आ गया।

हालांकि ऐसा पहली बार नहीं है जब विधायक रामबाई अपने कारनामे को लेकर विवादों में है। इससे पहले भी पुलिस के साथ दबंगई दिखाते हुए उन्होंने यातायात व्यवस्था पर पुलिस अधिकारियों को फटकार लगाई थी। साथ ही चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर व्यवस्था ठीक नहीं होती है तो वह खुद मैदान में उतर आएंगी।