शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिज़वी बने जितेंद्र नारायण, धर्म परिवर्तन पर कही बड़ी बात

वसीम रिज़वी उत्तर प्रदेश के बड़े मुस्लिम चेहरा रहे हैं, उनके सनातम धर्म अपनाने के बाद यूपी की सियासत गरमा गई है।

गाजियाबाद, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश के बड़े मुस्लिम चेहरा शिया वक्ष बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिज़वी (Wasim Rizvi) आज से जीतेन्द्र नारायण सिंह त्यागी (Jitendra Narayan Singh Tyagi) हो गए। उन्होंने हिन्दू धर्म अपना लिया हैं , उन्हें आज 6 दिसंबर को गाजियाबाद में यति नरसिंहानंद सरस्वती ने सनातन में शामिल कराया। सनातन शर्म (Sanatan Dharma) अपनाकर हिन्दू बने वसीम रिजवी ने मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया था और हर शुक्रवार को मेरे सिर पर इनाम बढ़ा दिया जाता है, मैं आज सनातन धर्म अपना रहा हूँ।

सनातन धर्म अपनाने के बाद वसीम रिजवी ने कहा कि यहाँ धर्म परिवर्तन जैसी कोई बात ही नहीं है। जब मुझे इस्लाम से निकाल ही दिया  गया था तो फिर मेरी मर्जी मैं कौन सा धर्म स्वीकार करूँ। सनातन धर्म दुनिया का पहला धर्म है इसमें जितनी अच्छे है दूसरे धर्मों में नहीं है , इस्लाम को मैं धर्म नहीं मानता , हर जुमे को नमाज के बाद मेरा सिर काटने के लिए फतवे दिए जाते हैं ऐसे में हमें कोई मुसलमान कहे ये सुनकर हमें शर्म आती है।

 ये भी पढ़ें – MP में कोरोना की रफ्तार तेज, आज फिर 17 पॉजिटिव, 6 दिन में 89 नए केस, सरकार अलर्ट

वसीम रिजवी ने सनातन धर्म अपनाने की जानकारी ट्वीट कर दी।  उन्होंने ट्विटर हैंडल पर अपना नाम वसीम रिजवी ?जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी लिखा है और साथ में लिख – जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी आज हिंदू धर्म स्वीकार्य किया, अपनी मां की गोद में लौटने जैसा लग रहा है।

ये भी पढ़ें – अब गर्भगृह में जाकर कर सकेंगे बाबा महाकाल के दर्शन, प्रतिबन्ध भी रहेंगे जारी

गौरतलब है कि शिया वक्फ बोर्ड केपूर्व चेयरमैन वसीम रिज़वी ने कुछ दिन पहले ऐलान किया था कि वे इस्लाम छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने जा रहे हैं।कुछ दिन पहले उन्होंने अपनी वसीयत भी सार्वजानिक की थी जिसमें उन्होंने लिखा था कि मरने के बाद उन्हें दफनाया ना जाये बल्कि हिन्दू रीतिरिवाज के अनुसार उनका अंतिम संस्कार किया जाये।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : सोना और चांदी दोनों चमके, खरीदने से पहले देख लें रेट

वसीम रिजवी पिछले कुछ दिनों से कट्टरपंथियों के खिलाफ लगातार ट्वीट कर अपने इरादे भी जाहिर कर रहे थे।