खुशखबरी: केन्द्र सरकार का मध्य प्रदेश को बड़ा तोहफा, 2 करोड़ की प्रोत्साहन राशि भी मिलेगी

केन्द्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को 2 श्रेणी में क्रमशः प्रथम एवं द्वितीय पुरस्कार दिया जाएगा। साथ ही राज्य शासन को 2 करोड़ रूपये की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

madhya pradesh
demo pic

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश ने एक बार फिर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। केन्द्र सरकार द्वारा खनिज विकास पुरस्कारों की श्रेणी में मध्यप्रदेश का चयन का चयन किया है। इसके तहत मध्य प्रदेश को 2 पुरस्कार मिलेंगे और 2 करोड़ की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। दिल्ली में नेशनल कॉनक्लेव में मध्य प्रदेश के खनिज मंत्री पुरस्कार ग्रहण करेंगे ।

यह भी पढ़े.. MP: लापरवाही पर बड़ी कार्रवाई, 5 शिक्षक निलंबित, 4 को हटाया, 1 का वेतन रोका, 310 कर्मचारियों को नोटिस

दरअसल, केंद्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को खनिज विकास के लिए अपनाई जा रही नीतियों और उल्लेखनीय कार्यों के लिए नई दिल्ली में होने वाली 6वें नेशनल कॉनक्लेव में पुरस्कृत किया जाएगा। पुरस्कार मध्यप्रदेश के खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ग्रहण करेंगे।इस नेशनल कॉनक्लेव में खनिज नीलामी प्रक्रिया को सफलता से क्रियान्वित करने के लिए राज्य सरकारों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। कॉनक्लेव का उद्घाटन केन्द्रीय कोयला एवं खान मंत्री  प्रल्हाद जोशी करेंगे। केन्द्रीय गृह मंत्री  अमित शाह मुख्य अतिथि होंगें।

मध्यप्रदेश के खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह ने कहा है कि यह प्रदेश के लिए हर्ष का विषय है कि केन्द्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को 2 श्रेणी में क्रमशः प्रथम एवं द्वितीय पुरस्कार दिया जाएगा। साथ ही राज्य शासन को 2 करोड़ रूपये की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी।

यह भी पढ़े.. MP Weather: 4 वेदर सिस्टम एक्टिव, 33 जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी, बिजली गिरने की भी चेतावनी

गौरतलब है कि केन्द्र सरकार द्वारा वर्ष 2015 से केन्द्रीय अधिनियम में किये गये संशोधन के बाद मुख्य खनिजों के ब्लॉकों को नीलामी के माध्यम से आवंटन की पारदर्शी प्रक्रिया अपनाई जा रही है। मध्यप्रदेश शासन द्वारा इस दिशा में शीघ्रता से कार्य करते हुए नीलामी प्रक्रिया शुरू कर अब तक 52 मुख्य खनिजों के खनिज ब्लॉक की नीलामी की जा चुकी है। हीरा, चूना पत्थर, मैंग्नीज, बॉक्साइट, आयरन ओर, रॉक फास्फेट आदि खनिज के ब्लॉक शामिल हैं। इनमें से 27 खनिज ब्लॉक सफलता से नीलाम हो चुके है। नीलामी के बाद खदान संचालित होने पर आगामी 50 वर्षों में राज्य शासन को 47 हजार 219 करोड़ रूपये का राजस्व संभावित होगा। प्रदेश में आगामी चरण में मुख्य खनिजों के 27 ब्लॉकों की नीलामी की कार्यवाही प्रचलन में है।