शासकीय कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, सेवानिवृत्ति आयु में 2 वर्ष की वृद्धि, बढ़कर हुई 67 वर्ष, आदेश जारी

राज्य सरकार द्वारा मेडिकल कॉलेज के शिक्षकों की सेवानिवृत्ति आयु को बढ़ाकर 65 से 67 वर्ष किया गया था ।

employees news

रांची, डेस्क रिपोर्ट। राज्य के लाखों कर्मचारियों-डॉक्टर (Employees-doctors) के लिए अच्छी खबर है। दरअसल सेवानिवृत्ति आयु (retirement age hike) में 2 वर्ष की वृद्धि के साथ ही उनकी सेवा 2 वर्ष (service years) के लिए बढ़ा दी गई है। कैबिनेट की मुहर लगने के बाद इसके लिए नोटिफिकेशन (notifiaction) जारी कर दिया गया है। वहीं अब गैर शिक्षण संवर्ग के अधिकारियों की सेवानिवृत्ति आयु 65 वर्ष से बढ़ाकर 67 वर्ष की गई।

दरअसल इस मामले में 29 जुलाई को बड़ा निर्णय लिया गया था। जब शासकीय कर्मचारी डॉक्टर को बड़ी राहत दी गई थी और उनकी सेवानिवृत्ति आयु में 2 वर्ष का इजाफा किया गया था। कैबिनेट की मुहर लगने के बाद विशेषज्ञ डॉक्टर और गैर शिक्षक कर्मचारी की सेवानिवृति आयु 65 से बढ़ाकर 67 वर्ष कर दी गई थी। मामले में अधिसूचना जारी करते हुए मुख्य स्वास्थ्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने कहा कि डॉक्टरों की कमी के कारण लोगों को उचित स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में सरकार को बाधा का सामना करना पड़ रहा था।

हर साल चिकित्सा अधिकारी सेवानिवृत्त हो जाते हैं लेकिन नियुक्ति उस अनुपात में नहीं होने की वजह से राज्य में कर्मचारी डॉक्टरों की भारी कमी हो गई थी। डॉक्टरों की कमी का अनुपात ऊंची दर से बढ़ रहा था। इसके बाद कर्मचारियों की सेवा वर्ष में 2 वर्ष का इजाफा किया गया है।

Read More : EOW Raids : जबलपुर RTO के घर EOW का छापा, 650 प्रतिशत अधिक बेनामी संपत्ति का खुलासा, प्रकरण दर्ज

ज्ञात हो कि इससे पहले राज्य सरकार द्वारा मेडिकल कॉलेज के शिक्षकों की सेवानिवृत्ति आयु को बढ़ाकर 65 से 67 वर्ष किया गया था । उन्होंने कहा कि वर्तमान गैर शिक्षण संवर्ग के डॉक्टर विशेषज्ञ की सेवानिवृत्ति आयु बढ़ाने से मरीजों के इलाज में मदद मिलेगी। इससे प्रदेश में स्थित पांच मेडिकल कॉलेज के अलावा 24 जिला सदर अस्पताल, 12 संभागीय अस्पताल, 188 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 385 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बेहतर तरीके से संचालित होंगे।

आजादी की से पहले 2015 में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में सरकार ने गैर शिक्षण डॉक्टरों के सेवानिवृत्ति आयु बढ़ाकर 65 वर्ष किया था। 2017 तक सरकार के पास 5000 की आवश्यकता के मुकाबले केवल 2000 कर्मचारी मौजूद थे। जिसको देखते हुए डॉक्टरों की सेवानिवृत्ति आयु बढ़ाने की कवायद 3 साल से जारी थी।