सरकार दे सकती है बड़ा लाभ, 74000 रुपये तक बढ़ सकता है कर्मचारियों का वेतन, जाने कैसे

हालांकि सरकार द्वारा बेसिक मंथली सैलरी को बढ़ाने से इंकार कर दिया गया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। केंद्र सरकार (Modi Government) के 7th pay employees कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी की लिस्ट जल्द खत्म होती नहीं दिख रही है। सरकार जल्द ही जून महीने के महंगाई भत्ते (Dearness allowance) को अपनी मौजूदा व्यवस्था में जोड़कर देने जा रही है। अगर ऐसा होता है तो DA 28 फीसदी से बढ़ाकर 31 फीसदी कर दिया जाएगा।

हालांकि जून 2021 का डीए अभी तय नहीं हुआ है लेकिन जनवरी से मई 2021 के AICPI के आंकड़ों के आधार पर 3% महंगाई भत्ता और बढ़ जाएगा। फिलहाल यह तय नहीं हुआ है कि इसका भुगतान कब किया जाएगा लेकिन 3% की बढ़ोतरी तय है, जिससे DA 31 फीसदी हो जाएगा।

Read More: MP Corona: 8 दिन में मिले 82 पॉजिटिव, ये जिले सबसे ज्यादा संक्रमित, दिशा-निर्देश पर सख्त हुई सरकार

जनवरी 2020 में महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी। फिर जून 2020 में 3 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। जनवरी 2021 में फिर से 4 फीसदी का उछाल आया, ऐसे तीन उछाल में DA 11 फीसदी बढ़ा और अब यह 28 फीसदी तक पहुंच गया है।

केंद्र सरकार ने पिछले 18 महीने से महंगाई भत्ते पर लगी रोक को हटा दिया था। केंद्रीय कर्मचारी और पेंशनभोगी अपने मूल वेतन और ग्रेड के अनुसार वेतन वृद्धि का अंदाजा लगा सकते हैं। हालांकि सरकार द्वारा बेसिक मंथली सैलरी को बढ़ाने से इंकार कर दिया गया है। जिसके बाद कर्चारियों के अंदर निराशा देखी जा रही है।

गणना के अनुसार वेतन में वृद्धि 

सातवें वेतन आयोग (7th pay commission) के मैट्रिक्स (metrics) के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों का लेवल-1 वेतन 18,000 रुपये से 56,900 रुपये के बीच है। इसलिए, केंद्रीय कर्मचारी को सितंबर के वेतन में कितनी वृद्धि हुई है, यह देखने के लिए किसी को 18,000 रुपये के मूल वेतन की गणना करने की आवश्यकता है।

20,000 मूल वेतन की गणना- 28% महंगाई भत्ते की गणना

  • यदि कर्मचारी का मूल वेतन 20,000 रुपये है
  • नया महंगाई भत्ता (28%) 5600 रुपये प्रति माह
  • महंगाई भत्ता अब तक (17%) 3400 रुपये प्रति माह
  • कितना बढ़ा महंगाई भत्ता 5600- 3400= 2200 रुपये प्रति माह
  • वार्षिक वेतन में वृद्धि 2200X12 = रु 26400

20000 रुपये के मूल वेतन पर कुल वार्षिक महंगाई भत्ता 67200 रुपये होगा, लेकिन वेतन में सालाना बढ़ोतरी का अंतर 26400 रुपये होगा।

अगर 31% हुआ DA तो इतनी बढ़ेगी सैलरी

  • यदि कर्मचारी का मूल वेतन 20,000 रुपये है
  • अपेक्षित महंगाई भत्ता (31%) 6200 रुपये प्रति माह
  • नया बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता अब तक (28%) 5600 रुपये प्रति माह
  • कितना बढ़ा महंगाई भत्ता 6200- 5600= 600 रुपये प्रति माह
  • वार्षिक वेतन में वृद्धि 600X12 = रु 7200

20000 रुपये के मूल वेतन पर कुल वार्षिक महंगाई भत्ता 74,400 रुपये होगा। लेकिन वेतन में सालाना बढ़ोतरी का अंतर 7200 रुपये होगा।