IAS ने महिला को चाय पर बुलाया, बोली- सस्ता व्यवहार नहीं बदलेगा, गर्माया मामला

IAS - इसमें कुछ भी गलत होने जैसा नहीं है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) के पुलिस प्रशासन (Police administration) और बड़वानी कलेक्टर (badwani collector) पर आरोप लगाने के बाद चर्चा में आये  IAS लोकेश जांगिड़ (IAS  Lokesh jangid) इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए है। अफसरों की तानाशाही की बात करने से लेकर बीते दिनों से खरीदी मामले में फ्रॉड (Fraud) का शिकार हुए आईएएस लोकेश जांगिड़ (lokesh jangid) अब अपने एक मैसेज को लेकर निशाने पर आ गए हैं।

दरअसल इन दिनों वर्ण व्यवस्था पर भारत में खुलकर चर्चा हो रही है। ट्विटर (twitter) अखाड़ा बना हुआ है। बीते दिनों स्वरा भास्कर के पूजा करते एक फोटो वायरल हुई थी। जिसके बाद ट्विटर पर कमेंट के जरिए वर्ण व्यवस्था को लेकर विरोधाभासी देखने को मिला था।

इस बीच ट्विटर की एक गतिविधि पर Ias लोकेश जांगिड़ ने प्रीति नाम की एक महिला को मैसेज भेजा था। जिसको लेकर बवाल हो गया है। महिला ने IAS द्वारा भेजे गए मैसेज के Screenshot शेयर कर दिया है। इतना ही नहीं महिला ने आईएसएस (IAS) को निशाने पर लेते हुए कहा कि अजनबी होते हुए इससे चाय पर बुलाने का क्या मतलब है?

Read More: CM Rise School योजना में विरोध के साथ पुरानी पेंशन बहाली पर अड़े शिक्षक, दी चेतावनी

हालांकि अब इस बात पर लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया सामने आ रही है। मामले में IAS लोकेश जांगिड का कहना है कि twitter पर कुछ कमेंट किए गए थे जिसमें वर्ण व्यवस्था को लेकर विरोधाभास है इस कारण से उन्होंने महिला को मैसेज कर वर्ण व्यवस्था के इस विरोधाभास को खत्म करने के लिए चाय पर बुलाया था। इसमें कुछ भी गलत होने जैसा नहीं है।

जबकि मामले में यूजर का कहना है कि अगर आपको IAS की तरफ से इनविटेशन दिया गया था तो आपको तत्काल मना कर देना था, स्क्रीनशॉट (screenshot)  डालने की आवश्यकता नहीं थी। जिस पर महिला का कहना है कि इंकार से इस तरह का व्यवहार नहीं बदलेगा, यह बात शुरू करने का तरीका है। सभी को अपनी सीमा समझनी चाहिए।