IMD Alert : दिल्ली-NCR-UP में इस दिन मानसून की दस्तक, मौसम विभाग ने दी जानकारी, 20 राज्य में भारी बारिश का अलर्ट

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, मुंबई, पालघर, ठाणे और रायगढ़ में आज (IMD) मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है।

राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत में जल्दी मानसून (Monsoon 2022) का प्रवेश देखने को मिल सकता है। दरअसल दिल्ली में कुछ दिनों तक मौसम खुशमिजाज बना रहेगा। IMD Alert ने अच्छी जानकारी देते हुए बताया है कि गर्मी से राहत मिलेगी। इस तरह मौसम परिस्थितियां बन रही है कि मानसून के अगले सप्ताह तक दिल्ली (Delhi rains) में प्रवेश की संभावना जताई जा रही है। मानसून के प्रवेश के साथ ही दिल्ली में बारिश का दौर (rain alert) शुरू हो जाएगा। जिससे गर्मी से राहत मिलेगी।

हालांकि तापमान में भी दो से तीन के साथ की गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो 27 जून तक दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में मानसून का प्रवेश देखने को मिल सकते हैं। इधर प्री मानसून के कारण मौसम विभाग ने दिल्ली में बुधवार को आकाश में आंशिक बादल छाए रहने की संभावना जताई है। इसके अलावा अधिकतम तापमान 36 डिग्री व न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस तक रहने की संभावना जताई गई है। 27 जून से मानसून की दस्तक के साथ ही दिल्ली के कई इलाके में भारी बारिश का दौर शुरू हो जाएगा।

इधर असम में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। असम मेघालय मणिपुर अरुणाचल प्रदेश सहित नागालैंड में भारी बारिश का दौर जारी है जबकि दक्षिणी राज्यों की बात करें तो कर्नाटक केरल तमिलनाडु महाराष्ट्र और गोवा सहित उड़ीसा आंध्रप्रदेश में भी बूंदाबांदी का दौर जारी है। कई क्षेत्रों में बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा उत्तर भारत की बात करें तो बिहार झारखंड उत्तरप्रदेश सहित हरियाणा पंजाब और नई दिल्ली में आसमान में बादल छाए रहेंगे। कुछ क्षेत्रों पर गरज चमक के साथ बौछारें पड़ सकती है। हालांकि मानसून के 27 जून को प्रवेश के साथ ही इन क्षेत्रों में मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। तापमान में गिरावट का दौर जारी है।

वहीं बिहार झारखंड मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ सहित गुजरात और राजस्थान में बारिश का सिलसिला शुरू हो गया है। मध्य प्रदेश में मानसून की दस्तक के साथ ही राजस्थान गुजरात सहित छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश मैं गरज चमक के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। पर्वतीय राज्य में उत्तराखंड, लेह लद्दाख, शिमला, जम्मू कश्मीर में गरज चमक के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। आसमान में बादल छाए रहेंगे। जनजीवन सामान्य बना रहेगा।

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, मुंबई, पालघर, ठाणे और रायगढ़ में आज (IMD) मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है। शहर और उपनगरों में हल्की बारिश के साथ आसमान में बादल छाए रहेंगे। अलग-अलग इलाकों में भारी से बहुत भारी वर्षा संभव है। ऑरेंज अलर्ट जारी करने के बाद, मौसम सेवा ने अपने दैनिक बुलेटिन में सूचित किया गया है।

Read More : BJP ने दी बागी नेताओं को चेतावनी, नाम वापस नहीं लिया तो होगा कड़ा एक्शन

मुंबई बारिश

शहर में अगले दो या तीन दिनों में लगभग 130 मिमी बारिश हो सकती है, जो मुंबई के लिए असामान्य नहीं है, लेकिन इससे जलभराव हो सकता है। अधिकांश मुंबई और उसके उपनगरों में सप्ताहांत में भी हल्की बारिश हुई। दक्षिण मुंबई में उपनगरों की तुलना में अधिक बारिश हुई, जिसमें IMD की कोलाबा वेधशाला में 67 मिमी और सांताक्रूज़ वेधशाला में 13 मिमी की रिकॉर्डिंग दर्ज की गई।

अपने आगमन के बाद से पिछले सप्ताह में केवल कुछ ही मॉनसून बारिश प्राप्त करने के बाद, इस सप्ताह बारिश की गतिविधि बढ़ने की उम्मीद है। महाराष्ट्र में पिछले कुछ दिनों से आसमान में बादल छाए हुए हैं, मुंबई समेत राज्य के अधिकांश हिस्सों में हल्की बारिश हो रही है।

जबकि दक्षिण-पश्चिम मानसून महाराष्ट्र के कई हिस्सों में रहा है, जिसमें इसकी राजधानी मुंबई भी शामिल है, इस समय के अधिकांश समय में वर्षा की गतिविधि कम रही है। हाल ही में हुई बारिश से मुंबई की वायु गुणवत्ता ‘अच्छी’ श्रेणी में है। सरकारी एजेंसी सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने आज सुबह 8:45 बजे बताया कि कुल एक्यूआई 29 था।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, पश्चिमी तट के साथ चलने वाली पश्चिमी हवाएं, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक से दक्षिण तमिलनाडु तक फैली एक ट्रफ के साथ मिलकर अगले पांच दिनों तक महाराष्ट्र और उसके पड़ोसी राज्यों में 22 जून और संभवतः आगे भारी बारिश का कारण बनेंगी।

नतीजतन, दक्षिण कोंकण और गोवा में शनिवार से बुधवार (18-22 जून) और मध्य महाराष्ट्र के घाट क्षेत्रों में सोमवार से बुधवार (20-22 जून) तक भारी बारिश की संभावना है। इस बीच, बहुप्रतीक्षित दक्षिण-पश्चिम मानसून आज गुजरात, मध्य प्रदेश, विदर्भ के शेष हिस्सों और छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार के अतिरिक्त हिस्सों में चला गया है।