IMD Alert : 20 राज्य में 10 मई तक बारिश का अलर्ट, चक्रवात ‘असानी’ का दिखेगा असर, 8 मई के बाद इन क्षेत्रों में हीटवेव की चेतावनी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि मिजोरम और त्रिपुरा में गरज़ के साथ बूंदाबादी का अलर्ट जारी किया गया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। Today Weather Update कुछ राज्य में पश्चिमी विक्षोभ (Western Disturbance) का असर खत्म होने के कारण एक बार फिर से हीटवेव (heatwave) की संभावना बढ़ने वाली है। दरअसल आईएमडी अलर्ट (IMD Alert) की माने तो राजधानी दिल्ली में 10 और 11 मई के बाद एक बार फिर से लू की संभावना जाहिर की गई है। इसके साथ ही साथ मध्य प्रदेश (MP) के कई जिलों में हीटवेव का अलर्ट जारी किया गया है। इसके साथ ही गुजरात हरियाणा में कुछ जिलों में लू की चेतावनी जा रही है। हालांकि उड़ीसा में आ रहे संभावित चक्रवात (Cyclone Asani) का असर 7 से अधिक राज्य में देखने को मिलेगा।

वहीं पश्चिमी विक्षोभ के कारण पूर्वी और दक्षिणी राज्य सहित यूपी, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा सहित मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात के कुछ हिस्सों में आसमान में बादल छाए रहेंगे बूंदाबांदी के आसार जताए गए हैं 20 से अधिक राज्यों में 8 मई तक बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। आईएमडी ने यह भी कहा है कि इस सप्ताह कोई हीटवेव की भविष्यवाणी नहीं की गई है। इस साल दिल्ली की गर्मियों ने एक रिकॉर्ड बनाया क्योंकि यह 1951 के बाद से दूसरा सबसे गर्म अप्रैल था, जहां मासिक औसत अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस था।

Read More : MP Police Recruitment 2022: पुलिस भर्ती पर बड़ी अपडेट, इन अभ्यर्थियों का होगा फिजिकल टेस्ट, जानें नियम

राष्ट्रीय राजधानी में 10 और 11 मई को एक बार फिर हीटवेव की स्थिति का अनुमान है, जब अधिकतम तापमान 43 या 44 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। उत्तर-पश्चिम मध्य प्रदेश से मेघालय तक एक पूर्व-पश्चिम ट्रफ रेखा और निचले क्षोभमंडल स्तरों में बंगाल की खाड़ी से दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के प्रभाव में, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर पर भारी बारिश की संभावना है।

यहां तक ​​कि दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर एक चक्रवाती तूफान के कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना के साथ, दो अलग-अलग प्रणालियों ने गुरुवार को पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत और दक्षिणी राज्यों केरल और तमिलनाडु के कई हिस्सों में भरपूर बारिश हुई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि मिजोरम और त्रिपुरा में गरज़ के साथ बूंदाबादी का अलर्ट जारी किया गया है।

वहीं कई राज्य में न्यूनतम और अधिकतम तापमान में कमी देखने को मिली है। न्यूनतम तापमान में जहां 1 से 2% में अधिकतम तापमान 3 से 4 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की गई है। मौसम विभाग की माने तो मध्य प्रदेश में तापमान में 4 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की गई है जबकि बिहार झारखंड में तापमान 8 से 10 फीसद गिरा है। राजधानी पटना में न्यूनतम तापमान 25 डिग्री जबकि अधिकतम तापमान 32 से 33 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना जताई गई है।

Read More : लाखों पेंशनर्स के लिए बड़ी अपडेट, जल्द पहुंचेगी खाते में राशि, सरकार के दिशा-निर्देश जारी

7 से 12 मई के दौरान तटीय और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में बारिश की गतिविधि। इस बीच, एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण अंडमान सागर और पड़ोस पर बना हुआ है। इसके प्रभाव में, 6 मई को उसी क्षेत्र में एक कम दबाव का क्षेत्र (एलपीए) बनने की संभावना है। इसके साथ ही रांची में अधिकतम तापमान 1 व न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस देने की उम्मीद जताई गई है। वहीं राजस्थान मध्य प्रदेश में भी तापमान में 2 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड किए गए। मध्यप्रदेश में कल अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। वहीं राजधानी दिल्ली में 3 दिन तक बूंदाबांदी का दौर जारी देगा।

इसके उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और बाद के 48 घंटों के दौरान धीरे-धीरे एक अवसाद में तेज होने की संभावना है। 11 मई को अंडमान सागर के ऊपर मध्य और उससे सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी और (40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 60 किमी प्रति घंटे तक की गति) पर 65 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की संभावना है। पर्वतीय राज्य में भी बूंदाबांदी और बर्फबारी से मौसम में ठंडक घुली रहेगी।

हिमाचल उत्तराखंड में आसमान में बादल छाए हुए हैं। हल्की बूंदाबांदी हो रही है साथ ही कई स्थानों पर बर्फबारी भी देखने को मिली है। लेह लद्दाख में भी न्यूनतम तापमान गिरकर 2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। वही राजस्थान में न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस जबकि अधिकतम तापमान 38 से 40 वर्ष तक रिकॉर्ड किया गया है।

8 से 12 मई के दौरान बिहार, झारखंड, यूपी, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और ओडिशा में छिटपुट से हल्की / मध्यम वर्षा होने की संभावना है, निचले क्षोभमंडल स्तरों में प्रायद्वीपीय भारत पर ट्रफ लाइन के साथ गरज के साथ/बिजली/गंभीर हवाएं चलने की संभावना है। मध्य प्रदेश से निकाले थे कि पूर्व पश्चिम ट्रफ रेखा तैयार हुई है। वहीं इसमें जो क्षोभ मंडल स्तर पर बंगाल की खाड़ी से एक निर्णय हवाओं का क्षेत्र पश्चिमी हवाओं के प्रभाव से पूर्वी राज्य में बारिश का दौर जारी रहेगा।

मिजोरम त्रिपुरा में 13 मई तक गरज चमक के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। प्रदीपीय भारत में जो मंडल स्तर में ट्रफ रेखा बंद होने के कारण दक्षिणी राज्यों में भी चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वही अंडमान निकोबार दीप समूह में भी भारी वर्षा और बिजली गिरने की संभावना जाहिर की गई है।

Cyclone Asani

इधर उड़ीसा में चक्रवाती तूफान के 24 घंटे के अंदर तट से टकराने की संभावना है चक्रवाती तूफान को देखते हुए प्रशासनिक स्तर को एयरपोर्ट पर तैयार कर दिया गया। वहीं एनडीआरएफ की 17 टीम सहित कुल 222 टीमों को तैयार और अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए। आईएमडी की माने तो चक्रवात आने की स्थिति में 18 जिले प्रभावित हो सकते हैं। 18 जिले के बारिश होने की संभावना जाहिर की गई है। इसके साथ ही पश्चिम बंगाल बिहार झारखंड पर इसका असर देखने को मिल सकता। शनिवार तक उड़ीसा के डर से टकराने के बाद चक्रवात का असर कम हो जाएगा।

इसके प्रभाव से, 6-10 मई के दौरान निकोबार द्वीप समूह में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। मछुआरों को चेतावनी जारी की गई है कि हवा की गति 40-50 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है, 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से, अंडमान सागर और उससे सटे दक्षिण-पूर्व और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में गुरुवार को हवा की गति 55 तक पहुंचने की संभावना है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में हीट वेव प्रबंधन और मानसून की तैयारियों से संबंधित स्थिति की समीक्षा की और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राज्य, साथ ही शहर और जिला दोनों स्तरों पर हीट एक्शन प्लान बनाने की सलाह दी।   इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि पिछले कुछ दिनों से राहत के बाद 8 May आने वाले दिनों में महाराष्ट्र, विदर्भ, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, विदर्भ और दिल्ली के कुछ हिस्सों में लू चलने की संभावना है।