IMD Alert : बदलेगा मौसम का मिजाज, 20 राज्यों में 6 जुलाई तक भारी बारिश का अलर्ट, गरज-चमक की संभावना, मानसून का असर

बुलेटिन में चेतावनी दी गई है कि पश्चिमी तट पर अगले दो दिनों तक व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश के सभी हिस्सों में मानसून (Monsoon 2022) के प्रवेश के साथ ही है। बारिश (Rain) का दौर शुरू हो गया है। IMD Alert के मुताबिक कई क्षेत्रों में गरज चमक के साथ बारिश का अलर्ट (Rain alert) जारी किया गया है। इसके साथ ही कुछ राज्यों में आसमान साफ रहेगा। कड़ी धूप खिली रहेगी। 20 राज्यों में 7 जुलाई तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया। वहीं लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है।

अपनी मौसम रिपोर्ट में आईएमडी ने कहा कि अगले दो से तीन दिनों के भीतर, मानसून के राजस्थान और गुजरात के शेष क्षेत्रों में आगे बढ़ने की उम्मीद है। अगले दो से तीन दिनों के लिए, दक्षिण-पश्चिम मानसून है पूरे देश को कवर करने की संभावना है। मानसून शनिवार को पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के अतिरिक्त क्षेत्रों में आगे बढ़ गया। मौसम केंद्र ने हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश का अनुमान जताया है। 2 जुलाई को राजस्थान में कुछ छिटपुट जगहों पर भारी बारिश होने की पूरी संभावना है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) के नवीनतम बुलेटिन में कहा गया है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून (south west monsoon) ने शनिवार तक पूरे भारत को कवर कर लिया है। मानसून अपेक्षित तिथि से छह दिन पहले 2 जुलाई को उत्तरी अरब सागर, गुजरात और राजस्थान के शेष हिस्सों में पहुंच गया है। यह तब होता है जब भारत के कई हिस्सों में व्यापक बारिश जारी रहती है, जिससे बाढ़ आती है और जान-माल का नुकसान होता है।

इधर मुंबई में जलभराव और संबंधित यातायात के मुद्दे परेशां करने वाले हैं,वहीँ असम में स्थिति अधिक गंभीर थी जहां बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 170 को पार कर गई थी। मणिपुर में, बचाव दल लगातार बारिश के बाद एक निर्माण स्थल को कवर करने वाली मिट्टी धसने से भूस्खलन की स्थति निर्मित हो गई है, जिससे कम से कम 19 लोगों की मौत हो गई।

बुलेटिन में चेतावनी दी गई है कि पश्चिमी तट पर अगले दो दिनों तक व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है, जबकि देश के बाकी हिस्सों में छिटपुट या अलग-अलग वर्षा होने की संभावना है। इसमें कहा गया है कि अगले पांच दिनों तक पूरे देश में अधिकतम तापमान में कोई बदलाव की उम्मीद नहीं है।

राजस्थान: भारी बारिश का दौर जारी है। बारिश से बचने के लिए एक चाय की दुकान पर शरण लेने के बाद बिजली गिरने से कम से कम दो लोगों की मौत हो गई। जयपुर मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि पिछले 24 घंटों में झुंझुनू, जयपुर, सीकर, अलवर, बनारा, कोटा, चुरू, हनुमानगढ़ और बीकानेर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बारिश दर्ज की गई और छिटपुट स्थानों पर बहुत तेज बारिश हुई है। 2 जुलाई को कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी। हालांकि, 3 जुलाई से पश्चिमी राजस्थान में एक बार फिर बारिश की गतिविधियां कम हो जाएंगी।

Read More : Delhi-jabalpur Flight : विमान में चिंगारी के बाद केबिन में भरा धुआं, SpiceJet की दिल्ली में इमरजेंसी लैंडिंग, सभी यात्री सुरक्षित

मणिपुर: यहाँ पिछले दो महीने से बारिश का दौर जारी है। भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। राजधानी इंफाल के पास नोनी कस्बे में भूस्खलन से 19 लोगों की जान चली गई। हफ़्तों की बारिश के बाद, एक पहाड़ी एक रेलमार्ग निर्माण क्षेत्र में गिर गई, जिसमें सो रहे कई श्रमिकों की मौत हो गई और 18 अन्य घायल हो गए। सेना इलाके में राहत और बचाव कार्य में जुट गई है। करीब 50 लोगों के अब भी लापता होने की आशंका जाती गई है।

बिहार: अगले 4 से 5 दिनों के दौरान बिहार में गरज या बिजली के साथ व्यापक रूप से व्यापक या व्यापक वर्षा जारी रहने की संभावना है। आईएमडी ने 2 जुलाई की शुरुआत में जारी एक अलर्ट में कहा है कि 7 जुलाई का बारिश का दौर जारी रहेगा। इसे आईएमडी की ‘येलो अलर्ट’ श्रेणी में रखा गया है। जिसमें भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

उत्तराखंड-UP-Leh : मानसून का असर उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिलेगा। दरअसल आज 2 जुलाई से लेकर 6 जुलाई तक कई हिस्सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वहीं क्षेत्रों में जारी किया गया है। कुछ क्षेत्रों में आसमान साफ रहेगा हल्की धूप निकलेगी। तापमान में एक से दो फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की जा सकती है।

मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ और विदर्भ : राज्य में भी 2 से 6 जुलाई तक गरज चमक के साथ हल्की बूंदाबांदी मध्यम बारिश की संभावना जताई गई है। इसके साथ ही पूर्वी मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में आसमान में हल्के बादल छाए रहेंगे। कुछ जगह धूप निकलेगी। वहीं पश्चिमी विक्षोभ का भी असर देखने को मिलेगा।

हिमाचल प्रदेश : पर्वतीय राज्य हिमाचल प्रदेश में 5 और 6 जून को भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। इसके लिए अलर्ट जारी किया गया गरज चमक के साथ कुछ जगह पर हल्की बर्फबारी की भी संभावना जताई गई है। न्यूनतम तापमान 26 डिग्री व अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस तक रहने की संभावना जताई गई है।

असम: असम में बाढ़ की स्थिति बिगड़ने से कम से कम 14 और लोगों की मौत हो गई, जिससे मरने वालों की कुल संख्या 173 हो गई। अधिकारियों ने कहा कि बाढ़ से 30 जिलों में 29.70 लाख प्रभावित हुए हैं। कछार जिले के गंभीर रूप से प्रभावित सिलचर शहर के कई हिस्से अभी भी जलमग्न हैं।

इसमें कहा गया है कि ब्रह्मपुत्र, बेकी, कोपिली, बराक और कुशियारा जैसी नदियां कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, हालांकि उनमें से ज्यादातर का स्तर घट रहा है। असम के कामरूप जिले में एक मोटरसाइकिल सवार बाढ़ वाली सड़क से गुजरता है। 2 जुलाई को सुबह 7.30 बजे जारी उनके दैनिक बुलेटिन के अनुसार, आईएमडी ने भारी बारिश की भविष्यवाणी की है।

झारखंड उड़ीसा और गांगेय वेस्ट बंगाल में 2 से 6 जुलाई तक मध्यम बारिश के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। कई क्षेत्रों में जहां भारी बारिश देखने को मिलेगी। वहीं कई क्षेत्रों में गरज चमक जारी किया गया है। लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है। दिन भर कड़ी धूप खिलने के बाद शाम में भारी बारिश की संभावना जताई गई है।

सिक्किम असम मेघालय मणिपुर मिजोरम में भारी बारिश का दौर जारी है। आवागमन की सुविधा ठप हो गई है। इसके साथ ही कई जगह पर गरज चमक का अलर्ट जारी किया गया है। न्यूनतम तापमान 20 डिग्री व अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस तक रहने की संभावना जताई गई है।

केरल कर्नाटक तमिलनाडु महाराष्ट्र और गोवा में भी बारिश का दौर देखने को मिल रहा है। मध्यम और भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। कई क्षेत्रों के लिए येलो अलर्ट घोषित कर दिया गया है। मुंबई में लगातार हो रही बारिश से आवागमन की सुविधा प्रभावित होती जा रही है।