IMD Alert : उत्तर भारत सहित 17 राज्यों में 16 अगस्त तक भारी बारिश का येलो अलर्ट, मानसून सहित 2 चक्रवाती सिस्टम एक्टिव, इन राज्यों में गरज-चमक की संभावना

देशभर में मानसून के अलावा चार एक्टिव सिस्टम इन क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह बन रहे हैं दरअसल बंगाल की खाड़ी से निम्न दबाव के क्षेत्र निर्मित हो रहे हैं

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। कई राज्य में मानसून (Monsoon) का असर फिलहाल जारी रहेगा। दरअसल पश्चिमी और दक्षिणी राज्यों में मानसून की सक्रियता(Active monsoon) एक बार फिर से बढ़ गई है। IMD Alert ने मानसून की सक्रियता बढ़ने के साथ ही देश के पूर्वी और पश्चिमी हिस्से में भी भारी बारिश (heavy rain) की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने 11 से 15 अगस्त तक पश्चिम बंगाल, झारखंड के अलग अलग इलाकों में गरज चमक के साथ लगातार बारिश की संभावना जताई है। इसके अलावा असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा में भी 17 अगस्त तक भारी बारिश का दौर जारी रहेगा।

Read More : CG Weather : मानसून सहित 3 सिस्टम एक्टिव, 4 संभाग सहित 14 जिलों में भारी बारिश का येलो-ऑरेंज अलर्ट, रिकॉर्ड हुई सामान्य से 5 प्रतिशत अधिक वर्षा

पश्चिम भारत की बात करें तो गुजरात राजस्थान सहित पंजाब हरियाणा में भी बूंदाबांदी के आसार जताए गए हैं। 12 अगस्त को हरियाणा और पंजाब में गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने जारी है जबकि राजस्थान और गुजरात में भी कई हिस्सों में भारी बारिश देखने को मिल सकती है। मौसम विभाग ने तमिलनाडु कर्नाटक सहित दक्षिण भारतीय राज्य में भी भारी बारिश की भविष्यवाणी की है। IMD के अनुसार 11 अगस्त से 18 अगस्त तक कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र ,गोवा में भी बारिश का दौर जारी रहेगा।

देशभर में मानसून के अलावा चार एक्टिव सिस्टम इन क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह बन रहे हैं। दरअसल बंगाल की खाड़ी से निम्न दबाव के क्षेत्र निर्मित हो रहे हैं, जो पश्चिम और दक्षिण की तरफ बढ़े हैं। ऐसे में पश्चिम और दक्षिण राज्य में भारी बारिश का कहर देखने को मिल रहा है जबकि जम्मू कश्मीर से एक ट्रफ रेखा गुजर रही है। जिसकी वजह से पूर्वी राज्यों में भी बारिश का दौर शुरू हो गया है।

Read More : रक्षाबंधन पर मिली पेट्रोल-डीजल में राहत, MP में कहीं सस्ता तो कहीं महंगा हुआ पेट्रोल, जानें नए रेट

ऐसा मौसम विभाग ने जहां मानसून सामान्य रहने की उम्मीद जताई थी। वहीं पश्चिम दक्षिणी राज्य में मानसून का खासा प्रभाव नजर आ रहा है। अगले कुछ दिनों तक मध्य और पश्चिम भारत के कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग मध्य भारत वर्ष की मानसून की स्थिति का अनुमान लगा रहे हैं। इससे पूर्व मध्य प्रदेश और आसपास के क्षेत्र में एक कम दबाव का क्षेत्र और सौराष्ट्र और आसपास के पूर्वोत्तर अरब सागर पर एक निम्न दबाव का क्षेत्र निर्मित हुआ है।

तमिलनाडु और कर्नाटक जैसे दक्षिणी भारतीय राज्यों में भी भारी बारिश की संभावना है। मौसम सेवा ने 11 अगस्त को कर्नाटक में, 14 अगस्त को तेलंगाना में, और 13 और 14 अगस्त को तटीय आंध्र प्रदेश और यनम में अलग-अलग भारी गिरावट और गरज या बिजली गिरने के साथ काफी व्यापक वर्षा की भविष्यवाणी की है।

Read More : रक्षाबंधन पर मिली पेट्रोल-डीजल में राहत, MP में कहीं सस्ता तो कहीं महंगा हुआ पेट्रोल, जानें नए रेट

अगले 3 दिन तक उत्तर प्रदेश बिहार पूर्वोत्तर राज्य में हल्की बारिश होने की संभावना जताई गई है। वहीं 16 अगस्त के बाद मध्य महाराष्ट्र, विदर्भ, गुजरात, मध्य प्रदेश, गोवा में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम विभाग ने पर्वतीय राज्य में उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश सहित जम्मू कश्मीर में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। तेलंगना सहित अन्य राज्यों में भी भारी बारिश देखने को मिलेगी। उड़ीसा के कई क्षेत्रों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया गया है।

देश के पूर्वी हिस्से में भी काफी बारिश होने की संभावना है। 11, 13 और 14 तारीख को गंगीय पश्चिम बंगाल और झारखंड में अलग-अलग भारी गिरावट और गरज / बिजली के साथ काफी व्यापक वर्षा, 11 -14 पर ओडिशा, 13 तारीख को अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय 13 और 14, और नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में 12-13 और 14 अगस्त को ओडिशा में अलग-अलग स्थानों पर बहुत भारी वर्षा संभव है।