New Rules in 2022: 1 जनवरी से बदलने वाले हैं ये प्रमुख नियम. आमजन के लिए जानना जरूरी

जनवरी 2022 से एलपीजी गैस की कीमत में भी बदलाव हो सकता है।

EPFO Employees Pension

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। 1 जनवरी, 2022 से कई नियम (Rules) बदलने वाले हैं। जिनका सीधा प्रभाव आमजन के जीवन पर पड़ेगा। नियमों में ये बदलाव बैंकिंग (Banking), Railways, Finance और अन्य क्षेत्रों से जुड़े हुए हैं। नए एटीएम (ATM) निकासी शुल्क से लेकर रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में बढ़ोतरी तक, इन नए दिशानिर्देशों को जानना आम जनता के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

ये हैं 5 बड़े नियम बदलाव, जो जनवरी 2022 से प्रभावित करेंगे

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) जमा / निकासी शुल्क में परिवर्तन

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) के ग्राहकों के लिए एक बुरी खबर है। यदि आपका आईपीपीबी में खाता है तो आपसे 10,000 रुपये तक की नकद राशि निकालने और जमा करने के लिए शुल्क लिया जाएगा। नया नियम 1 जनवरी, 2022 से लागू होगा।

रेल यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर

वहीँ रेल यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर भी है। दरअसल भारतीय रेलवे ने नए साल 1 जनवरी से Unreserved टिकट वाली कुछ ट्रेनों के सामान्य डिब्बों में यात्रा की अनुमति देने का फैसला किया है। रेल यात्री 20 ट्रेनों में अनारक्षित टिकट से यात्रा कर सकेंगे।

Read More : जानिये, बच्चो को कैसे लगेगी वैक्सीन

LPG गैस सिलेंडर की कीमत में बदलाव

जनवरी 2022 से एलपीजी गैस की कीमत में भी बदलाव हो सकता है। संभावना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत के आधार पर एक बार फिर एलपीजी की कीमतों में बदलाव देखने को मिल सकता है। उसी के बारे में जल्द ही एक घोषणा की उम्मीद है।

1 जनवरी से एटीएम निकासी शुल्क में बदलाव

नए साल से एटीएम से निकासी शुल्क में बदलाव होने जा रहा है। अगर मुफ्त लेनदेन की मासिक सीमा पार हो जाती है, तो ग्राहक 1 जनवरी, 2022 से 20 रुपये के बजाय प्रति लेनदेन 21 रुपये का भुगतान करने के लिए बाध्य होंगे।

ICICI बैंक ग्राहकों के लिए महत्वपूर्ण सूचना

ICICI  बैंक 1 जनवरी से ICICI बैंक बचत खातों पर सेवा शुल्क में बदलाव करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

मासिक GST फाइल पर नए नियम

यदि आप मासिक GST फाइल नहीं करते हैं, तो आपको GSTR-1 दाखिल करने से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। जो व्यवसाय सारांश रिटर्न दाखिल करने में विफल रहते हैं या मासिक GST का भुगतान करने में चूक करते हैं। वे 1 जनवरी, 2022 से GSTR-1 बिक्री रिटर्न दाखिल नहीं कर पाएंगे। यह निर्णय हाल ही में जीएसटी परिषद द्वारा पालन की सुविधा के लिए लिया गया था