खाद की कालाबाजारी पर मंत्री ने अधिकारियों को दिए निर्देश, बर्दाश्त नहीं की जायेगी लापरवाही

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य-मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। 

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश (MP) में खाद (fertilizer) की कमी और खाद की कालाबाजारी लगातार हो रही है।खाद की किल्लत किसानों पर भारी पड़ती जा रही है। तो वहीं ऐसी स्थिति में भी लोग खाद की कालाबाजारी करने से भी बाज नहीं आ रहे हैं। इसी बीच लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य-मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य-मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने जिला प्रशासन, सहकारिता एवं कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि किसानों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप और समय पर खाद उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करें। राज्य-मंत्री यादव ने अशोकनगर कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में रबी सीजन 2021-22 के लिए किसानों को खाद उपलब्ध करवाने संबंधी समीक्षा बैठक ली।

उन्होंने कहा कि जिले में पर्याप्त मात्रा में खाद का भण्डारण है और आवश्यकता अनुरूप और भी व्यवस्था की जा रही है। यादव ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि खाद के अनाधिकृत विक्रय को सख्ती से रोकें और दोषी व्यक्ति के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्यवाही करें।

Read More: 1 करोड़ कर्मचारियों को मिलेगा बड़ा तोहफा, Salary में 10,800 से 90 हजार तक होगी बढ़ोतरी

राज्य-मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने निर्देश दिए कि जिले की सहकारी संस्थाओं को खाद तुरंत उपलब्ध करायें ताकि किसान भाइयों को सुगमतापूर्ण खाद प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा कि सहकारी एवं निजी संस्थाऐं प्रतिदिन का व्यौरा अपनी संस्था में अंकित कर रखें, जिसमें खाद की उपलब्धता, वितरण की मात्रा, शेष भण्डार की मात्रा और निर्धारित मूल्य का स्पष्ट उल्लेख होना अनिवार्य होगा।

राज्य-मंत्री यादव ने कहा कि रबी सीजन में खाद वितरण पर निगरानी के लिए राजस्व और कृषि विभाग के अधिकारियों का दल गठित किया जाए जो सतत मॉनिटरिंग करेगा। उन्होंने कहा कि खाद वितरण केन्द्रों पर कृषि विभाग के अधिकारियों की डियूटी लगाये जाने के साथ ही जिले की सीमाओं पर चेकिंग पाइंट भी बनाये जायें। बैठक में अशोकनगर विधायक जजपाल सिंह जज्जी, कलेक्टर आर. उमा महेश्वरी, सहायक कलेक्टर डॉ. नेहा जैन, डीएमओ गरिमा सेंगर, उप संचालक कृषि एस. के. माहौर, एसडीएम, तहसीलदार एवं संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।