60 वर्ष से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों के लिए सरकार का बड़ा फैसला, इस तरह मिलेगा लाभ

60 वर्ष से ऊपर के लोग अपनी साख जैसे शिक्षा, अनुभव, कौशल और रुचि के क्षेत्रों के साथ पंजीकरण कर सकेंगे।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। 60 वर्ष से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों के लिए मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। काम के अवसर चाहने वाले वरिष्ठ नागरिक (senior citizens) 1 अक्टूबर से अपनी तरह के पहले समर्पित रोजगार (govt job portal) कार्यालय में पंजीकरण (registration) करा सकेंगे। सरकार (modi government) द्वारा अपनी तरह की पहली नौकरी के अवसर चाहने वाले वरिष्ठ नागरिकों को 1 अक्टूबर से एक समर्पित रोजगार कार्यालय में पंजीकरण करने की अनुमति दे रही है।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय (MoSJ&E) सीनियर एबल सिटिजन फॉर री-एम्प्लॉयमेंट इन डिग्निटी (SACRED) 60 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों (senior citizens) को नौकरी खोजने में सक्षम बनाएगा। सामाजिक न्याय और अधिकारिता सचिव आर सुब्रमण्यम ने कहा कि मंच बुजुर्गों को काम के अवसर देने के लिए विभिन्न हितधारकों को एक साथ एक मंच पर ला सकता है।

Read More: केंद्रीय शिक्षा मंत्री का PhD को लेकर बड़ा ऐलान, असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में छात्रों को मिलेगी राहत

सामाजिक न्याय और अधिकारिता सचिव आर सुब्रह्मण्यम ने एक बयान में कहा कि मंच बुजुर्गों को काम के अवसर देने के लिए विभिन्न हितधारकों को एक साथ एक मंच पर लाएगा। प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए, मंत्रालय ने विभिन्न उद्योग संघों जैसे भारतीय उद्योग परिसंघ (CII), फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) और एसोसिएशन ऑफ एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) को लिखा है। बुजुर्गों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए ये नियम बनाये गए हैं।

वरिष्ठ नागरिकों की भर्ती कैसे होगी?

60 वर्ष से ऊपर के लोग अपनी साख जैसे शिक्षा, अनुभव, कौशल और रुचि के क्षेत्रों के साथ पंजीकरण कर सकेंगे।रिक्रूटर्स नौकरी या प्रोजेक्ट के साथ-साथ आवेदन करने वालों के लिए विशिष्टताओं और मानदंडों को पोस्ट करेंगे। हालांकि, मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि पोर्टल नौकरियों की गारंटी नहीं देता है, लेकिन रोजगार चाहने वालों के लिए एक प्रवर्तक के रूप में कार्य करेगा।

इससे पहले एक्सचेंज की स्थापना के लिए गठित एक अंतर-मंत्रालयी समिति ने सेक्रेड पोर्टल के निर्माण, रखरखाव और विपणन के लिए 60 करोड़ रुपये के साथ परियोजना के लिए 10 करोड़ रुपये की मंजूरी दी थी। मंत्रालय ने भारतीय उद्योग परिसंघ (CII), फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI), और एसोसिएशन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (ASSOCHAM) जैसे विभिन्न उद्योग संघों को रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए है।