Morena News : कांग्रेस MLA पर दर्ज हुआ हत्या का केस, गिरफ्तारी वारंट जारी

वही 8 अक्टूबर को कोर्ट की अगली सुनवाई में विधायक और उनके परिवार के सदस्यों को कोर्ट में पेश होने कहा गया है।

मुरैना, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) के मुरैना (morena) में कांग्रेस विधायक (Congress MLA) को बड़ा झटका लगा है। दरअसल संबलगढ़ से कांग्रेस विधायक बैजनाथ कुशवाहा (Baijnath Kushwaha) सहित उनके परिवार के साथ लोगों पर हत्या का मामला (murder case) दर्ज किया गया है। वही मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट (arrest warrent) भी जारी कर दिया है। दरअसल 10 दिसंबर 2015 को विधायक बैजनाथ कुशवाहा के छोटे भाई हरिसिंह कुशवाहा (harisingh kushwaha) की पत्नी अंगूरी कुशवाहा का शव खेत में मिला था। जिसके बाद अंगूरी के भाई गोरेलाल कुशवाहा ने इस मामले में कोर्ट में परिवाद पेश किया।

इस मामले में अंगूरी कुशवाहा के भाई गोरेलाल कुशवाहा ने कोर्ट में कहा कि विधायक (MLA) बैजनाथ कुशवाहा सहित उनके परिवार के 7 सदस्यों ने चरित्र शंका की वजह से पीट-पीटकर उनकी बहन की हत्या कर दी। मामले में अंगूरी कुशवाहा के भाई गोरेलाल कुशवाहा का कहना है कि अंगूरी कुशवाहा का 8 वर्षीय बेटा इस मामले का प्रत्यक्षदर्शी है। 8 वर्षीय कुणाल ने विधायक सहित घर के सदस्य पर अपनी मां की हत्या का आरोप लगाया है।

Read More: MP News: Shivraj Government ने इन्हें सौंपा राज्य मंत्री का दर्जा, आदेश जारी

इतना ही नहीं शव को उन्होंने खेत के कुएं तक में फेंक दिया। जिसके बाद कोर्ट के आदेश अनुसार अंगूरी कुशवाहा के पति हरि सिंह कुशवाहा पर केस दर्ज किया गया। हालाकि कोर्ट में सुनवाई के दौरान जो सबूत सामने उसके बिना पर परिवार के सात सदस्यों को भी आरोपी बनाया गया।

वही कोर्ट ने इस मामले में पुलिस की लापरवाही की भी बात कही है मामले में मृतका की शिकायत की। जिसके बाद मामले की जांच एसपी को सौंपी गई थी। बावजूद इसके पुलिस द्वारा मृतिका के बच्चों के बयान नहीं लिए गए। जिसके बाद कोर्ट ने पुलिस की जांच को भी आड़े हाथ लिया था।

आज सुनवाई के दौरान संबलगढ़ कोर्ट ने विधायक बैजनाथ कुशवाहा सहित परिवार के 7 सदस्यों को हत्या का दोषी मानते हुए उनके खिलाफ 302 का मामला दर्ज किया है। इसके साथ ही साथ कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी करने का फैसला सुनाया है। वही 8 अक्टूबर को कोर्ट की अगली सुनवाई में विधायक और उनके परिवार के सदस्यों को कोर्ट में पेश होने कहा गया है।