Morena: आज भी जन्म के पहले मारी जाती है लड़कियां, कलेक्टर का खुलासा, कार्रवाई के निर्देश

कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए हैं कि गर्भपात के कारणो का परीक्षण किया जाए और उनके निष्कर्ष पर जांच की जाए।

मुरैना, संजय दीक्षित/नितेन्द्र शर्मा। सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद मुरैना जिले में आज भी अजन्मी लड़कियों की कोख में हत्या जारी है। मुरैना के कलेक्टर बक्की कार्तीकेयन ने एक बैठक के दौरान अधिकारियों को इसे रोकने की कङाई से निर्देश दिए। मुरैना प्रदेश के उन जिलों में है जहां आज भी पुरुषों की तुलना में महिलाओं का अनुपात काफी कम है।

‘अगले जन्म मोहे बिटिया न कीजो’ महिलाओं पर प्रताड़ना और अत्याचार के मामलों में यह कहावत अक्सर सुनाई देती है। लेकिन मुरैना जिले में तो बेटी का जन्म लेना ही आज भी अभिशाप जैसा है और इसीलिए उन्हें कोख में ही मार दिया जाता है। खुलासा खुद मुरैना के कलेक्टर बक्की कार्तिकेयन ने एक बैठक के दौरान शुक्रवार को किया।

Read More: MP News: 7 लाख से अधिक कर्मचारियों को राहत, वित्त विभाग की बड़ी तैयारी, मिलेगा लाभ

उन्होंने कहा कि मुरैना जिले में लिंगानुपात प्रति हजार पुरुषों पर 895 महिलाओं का है। इसे सुधारने के लिए पीसीपीएनडीटी एक्ट के सदस्य नियमित रूप से उन गांव में भ्रमण करें जिनमें पुरुषों की तुलना में महिलाएं काफी कम है। जहां महिलाएं गर्भवती तो होती है लेकिन प्रसव पूर्व ही गर्भपात करा दिया जाता है। उन्होंने पीसीपीएनडीटी एक्ट के सदस्यों को निर्देश दिए कि वह 18 सेन्टरो पर तीन माह के अंदर विजिट करें और यह भी परीक्षण करें कि गर्भपात उस महिला का किया गया है तो क्यों किया गया है और क्या उसके पहले कितने बच्चे थे।

Read More: Ujjain News: 28 जून से श्रद्धालुओं को होंगे महाकाल के दर्शन, गाइडलाइन का करना होगा पालन

कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए हैं कि गर्भपात के कारणो का परीक्षण किया जाए और उनके निष्कर्ष पर जांच की जाए। कलेक्टर ने कहा कि पिछले कुछ महीने पहले संजय कॉलोनी में विप्रो कंपनी की अल्ट्रासाउंड मशीन पर छापामार कार्रवाई की गई थी जिसमें अल्ट्रासाउंड मशीन के बारे में असेंबल्ड होना कंपनी ने बताया था। इतना ही नहीं तमिलनाडु के एक डॉक्टर और कुछ स्टाफ नर्स इसमें आरोपी पाए गए थे।

जिसमे कलेक्टर द्वारा डाक्टर के खिलाफ कार्रवाई प्रस्तावित कर तमिलनाडु सरकार से जिला प्रशासन के लिए कार्रवाई करने हेतु भेजने के निर्देश भी कलेक्टर ने दिए और नर्स के खिलाफ कार्रवाई करने की सहमति दी। कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को इन मामलों में कड़ाई से कार्य करने को कहा ताकि महिलाओं का अनुपात पुरुषों की तुलना में सुधार सकें।