MP : लापरवाही पर बड़ा एक्शन, पीठासीन अधिकारी-शिक्षक सहित 8 निलंबित, 9 को नोटिस जारी

निर्वाचन अधिकारी मनोज पुष्प ने व्याख्याता हीरामणि शर्मा और शिक्षक सुखेंद्र सिंह को भी तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में अधिकारी कर्मचारियों (MP Employees) पर निलंबन (Suspend) का सिलसिला जारी है। लगातार हो रही लापरवाही को देखते हुए इनके खिलाफ बड़ा एक्शन लिया जा रहा है। इसी बीच बड़ी कार्रवाई रीवा (Rewa) जिले में की गई है। रीवा कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी मनोज पुष्प पीठासीन अधिकारी महेश प्रसाद शर्मा सहायक वर्ग 1 को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक महेश शर्मा पीठासीन अधिकारी के रूप में कार्य करते हुए नशे की हालत में मतदान दल के अन्य सदस्यों से गाली गलौज कर रहे थे। वही नशे की हालत में मतदान केंद्र पहुंचने पर सहायक वर्ग 1 के खिलाफ यह कार्रवाई की गई। कार्रवाई रिटर्निंग ऑफिसर के प्रतिवेदन में दी गई है।

एक अन्य कार्रवाई सतना (satna) जिले में की गई है। जहां कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी अनुराग वर्मा द्वारा नगरीय निकाय चुनाव में कार्य के प्रति लापरवाही बरतने और प्रशिक्षण में अनुपस्थित होने पर 4 शिक्षकों पर निलंबन की गाज गिराई गई है। बता दे कि मतदान दलों में नियुक्त अधिकारियों के रूप में इन चारों द्वारा प्रशिक्षण कार्य में अनुपस्थित गया था। इसके अलावा अन्य कार्यों में भी लापरवाही बरतने पर शिक्षकों के निलंबन आदेश जारी किए गए हैं। जिन शिक्षकों को निलंबित किया गया है। उसमें रामलाल रवि, अखिलेश द्विवेदी, ददौली प्रसाद वर्मा और राजेश कुमार शामिल है।

Read More : Today Rashifal 9 July : मिथुन, तुला, वृश्चिक-कुंभ पर आज रहेगी शनिदेव की कृपा, प्रमोशन-धन लाभ की संभावना, सिंह-मकर को करना होगा यह उपाय

इसके अलावा रीवा जिले में एक अन्य कार्रवाई की गई है। जिसमें निर्वाचन अधिकारी मनोज पुष्प ने व्याख्याता हीरामणि शर्मा और शिक्षक सुखेंद्र सिंह को भी तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। हीरामणि शर्मा पर अपने भतीजे के पक्ष में अवैध तरीके से मतदान करने के आरोप लगाए गए हैं। यह शिकायत सही पाए जाने के बाद उन पर निलंबन की कार्रवाई की गई है। इसके अलावा शासकीय हाई स्कूल के शिक्षक सुखेंद्र सिंह पर अपनी माता के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के आरोप सही पाए जाने के बाद उन पर निलंबन की कार्रवाई की गई है।

इधर करने कार्रवाई गुना (Guna) जिले में की गई है। सरपंच प्रत्याशी भाई के समर्थन में प्रचार करने पर शिक्षक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। बता दें कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल की गई थी। जिसके बाद कलेक्टर को सरपंच प्रत्याशी राजू सिंह ने शिकायत की थी। जिसके प्रमाण भी दिए गए थे। मामले की जांच सही पाए जाने के बाद पाया गया कि शिक्षक अपने भाई के पक्ष में वोट मांग रहा था। जिसके बाद शिक्षक देवेंद्र सिंह रघुवंशी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

इधर एक अन्य कार्रवाई सतना जिले में की गई है। जहां जिला स्तरीय नगर निगम सतना के निर्वाचन में समाचार पत्रों में बिना अनु प्रमाण प्राप्त किए गए विज्ञापन और अपील प्रकाशित करने पर रिटर्निंग ऑफिसर की ओर से महापौर पद के 2 अभ्यर्थी और वार्ड क्रमांक 20 21 31 43 पार्षद नोटिस जारी कर दिया गया है।

कार्रवाई शिवपुरी (Shivpuri) जिले में की गई है। करेरा बीएमओ पिछले 10 दिनों से अस्पताल से बिना सूचना दिए गए हैं। जिसके बाद मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी ने उन्हें नोटिस जारी कर दिया है। बीएमओ अरविंद अग्रवाल को कुछ समय पहले ही मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी पवन जैन द्वारा BMO का प्रभार दिया गया था। वही 29 जून को सीएमओ पवन से बिना कोई बात की है। 1 जुलाई तक के अवकाश पर जाने के बाद 8 जुलाई तक वापस नहीं लौटे। जिसके बाद सीएमएचओ ने उन्हें नोटिस जारी किया है।

वही कार्रवाई खरगोन (khargone) में की गई है। जिला पंचायत सीईओ दिव्यांग सिंह ने सीओ ओमप्रकाश शर्मा को मनरेगा की कार्य में संतोषजनक प्रगति नहीं दिखाने पर कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर दिया है। वहीं स्पष्टजनक उत्तर नहीं मिलने पर बड़ी कार्रवाई की जा सकती है।