MP : लापरवाही पर बड़ा एक्शन, 4 ग्राम पंचायत सचिव सहित 9 अधिकारी तत्काल प्रभाव से निलंबित

एसपी मोनिका शुक्ला ने तत्काल कार्रवाई की और दोनों आरक्षक को निलंबित कर दिया।

mp news

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में लापरवाह अधिकारी कर्मचारियों (Employees) के खिलाफ एक बार फिर से बड़ी कार्रवाई की गई है। दरअसल सीधी मामले में इंटरनेट मीडिया पत्रकारों के अर्धनग्न तस्वीर वायरल (viral) होने के बाद एसपी मुकेश यादव ने सीधी और अमिलिया के थाना प्रभारी को निलंबित (suspend) कर दिया है। साथ ही इन्हें लाइन अटैच कर दिया गया है।

दरअसल 2 अप्रैल को फर्जी फेसबुक आईडी मामले में सिटी कोतवाली नीरज कुदेर नाट्य समिति को गिरफ्तार किया। जिसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया था। 10 से अधिक संख्या में लोग कोतवाली के सामने धरना प्रदर्शन करने लगे। जिसके बाद इन्हें लॉकअप में डाल दिया गया और इनकी अर्धनग्न तस्वीर लेकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दी गई। इस मामले में सीएम ने डीजीपी सहित अनेकों जवाब तलब किया। जिसके बाद डीजीपी के निर्देश पर रेडियो एसपी अमित सिंह को जिम्मेदारी सौंपी गई। जहां जांच के बाद सिटी कोतवाली प्रभारी सीधी मनोज सोनी और अमिलिया थाना प्रभारी अभिषेक सिंह को निलंबित कर दिया गया। वहीं जांच के आदेश स्थानीय स्तर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई।

एक अन्य कार्रवाई सागर जिले में की गई है जहां संभागीय कमिश्नर मुकेश कुमार शुक्ला द्वारा केसली जनपद पंचायत में सीईओ पूजा जैन (CEO Pooja jain) को लापरवाही और अपने पद के प्रति उदासीनता बरतने की वजह से तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक केसरी जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पूजा जैन द्वारा अपने पद दायित्व के प्रति लापरवाही बरती जा रही थी। साथ ही वरिष्ठ कार्यालय के निर्देश के बेलना की जा रही थी। इस मामले मैं राज्य शासन के द्वारा संचालित योजनाओं की नियमित समीक्षा नहीं की जा रही थी। साथ ही प्रगति संतोषप्रद नहीं होने और मासिक ग्रेडिंग प्रभावित होने की वजह से वैक्सीनेशन आयुष्मान कार्ड जैसे शासकीय योजना में अपेक्षित प्रगति ना देखते हुए कार्रवाई की गई है। वहीं कमिश्नर मुकेश कुमार शुक्ला ने कार्रवाई कलेक्टर के प्रस्ताव पर मध्य प्रदेश सिविल सेवा नियम के तहत की है। उनकी कार्रवाई के बाद उनका मुख्यालय कार्यालय जिला पंचायत टीकमगढ़ नियत किया गया है।

Read More : कर्मचारियों को बड़ा मिला तोहफा, मानदेय में वृद्धि, 2500 से 3000 रूपए तक बढ़कर आएंगे वेतन

एक अन्य कार्यवाही इंदौर संभाग के बड़वानी जिले में की गई है। जहां पर जिला पंचायत सीईओ अनिल कुमार डामोर द्वारा शासकीय कर्तव्य में लापरवाही बरतने पर 4 ग्राम पंचायत सचिवों (gram panachayat sachiv) पर बड़ा एक्शन लिया गया है।

जानकारी के मुताबिक जिला पंचायत सीईओ अनिल कुमार डामोर ने बड़वानी एसडीएम घनश्याम धनगर के प्रतिवेदन पर गुणवत्ता बनाने पर गांव के ग्राम पंचायत सचिव रवि सोलंकी सहित सजवानी के ग्राम पंचायत निर्माण कार्य में अनियमितता बरतने पर राजाराम भार्गव पर तत्काल प्रभाव से निलंबन की कार्रवाई की है। इसके अलावा आवास प्लस के सत्यापन कार्य में लापरवाही बरतने पर ग्राम पंचायत चावल के सचिव राधेश्याम नागर और जहूर के सचिव बद्रीनाथ कनासे को भी निलंबित कर दिया गया है।

एक अन्य कार्रवाई विदिशा जिले में किसी की गई है। जहां कोतवाली के दो आरक्षकों की लापरवाही की वजह से दुष्कर्म का आरोपी जिला अस्पताल परिसर के सामने से भाग गया। जिसके बाद एसपी मोनिका शुक्ला ने तत्काल कार्रवाई की और दोनों आरक्षक को निलंबित कर दिया।

जानकारी के मुताबिक ग्राम बक्सरिया निवासी 30 वर्षीय निरंजन रैकवार के खिलाफ नाबालिग से दुष्कर्म की शिकायत दर्ज की गई थी। 15 मार्च को पुलिस ने शिकायत पर उस पर मामला दर्ज किया था। जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया था। वहीं देर शाम 2:00 आरक्षक प्रांजल समधिया और केशव शर्मा द्वारा उसे मेडिकल कराने जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां आरक्षकों को चकमा देकर फरार हो गया। इस मामले में अब एसपी द्वारा दोनों आरक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। साथ ही आरोपी को पकड़ने के लिए 3000 का इनाम घोषित किया गया है।