MP Board : 10वीं-12वीं पूरक परीक्षा परिणाम पर आई बड़ी अपडेट, छात्रों के लिए जानना आवश्यक, जानें कब तक घोषित होंगे रिजल्ट

हालांकि उम्मीद जताई जा रही है कि पहले 12वीं के परिणाम की घोषणा होगी। जिससे छात्रों को कॉलेज में प्रवेश लेने में किसी भी तरह की दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

mp board 10th-12thresult

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के MP Board 10वीं और 12वीं छात्रों के लिए महत्वपूर्ण अपडेट है। एमपी बोर्ड दसवीं बारहवीं की पूरक परीक्षा (mp board 10th 12th supplementary exam) जून में समाप्त हो गई थी। छात्र परीक्षा समाप्त होने के साथ ही अपने रिजल्ट (mp board 10th 12th supplementary result) का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं लेकिन अभी छात्रों को सप्लीमेंट्री परीक्षा के परिणाम को लेकर थोड़ा इंतजार और करना होगा।

वहीं सूत्रों की माने तो माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा मूल्यांकन करने के लिए रीवा जिले को अकेले 20000 उत्तर पुस्तिकाएं दी गई है। 7 जुलाई से मूल्यांकन का कार्य शुरू हो गया है। हालांकि कई शिक्षकों के पंचायत और निकाय चुनाव में ड्यूटी लगने के कारण मूल्यांकन की गति काफी धीमी है। जिसके बाद माना जा रहा है कि पूरक परीक्षा के परिणाम की घोषणा अगस्त के दूसरे सप्ताह तक की जा सकती है।

चुनावी प्रक्रिया को को देखते हुए अभी तक सप्लीमेंट्री रिजल्ट पर किसी भी तरह की आधिकारिक अपडेट सामने नहीं आई है। वही अधिकारियों का कहना है कि अगस्त के अंत तक परिणाम की घोषणा कर दी जाएगी। मूल्यांकन के लिए शासकीय स्कूल के शिक्षकों की मदद ली जाएगी। वहीं प्रत्येक जिले को कॉपी जांचने के लिए 20 से 25 दिन का समय दिया गया है।

Read More : छात्रों के लिए UGC का महत्वपूर्ण फैसला, डिस्टेंस लर्निंग कोर्स के नियम में हुए संशोधन, इस तरह मिलेगा लाभ

वही मूल्यांकन प्रक्रिया पूरी होने के साथ ही छात्रों के नाम शिक्षा मंडल को भेजे जाएंगे। जिसके साथ ही 2 से 3 दिनों के बीच छात्र छात्राओं के अंकों को अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू होगी। वही माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा जुलाई अंतिम सप्ताह तक डेडलाइन दी गई थी जबकि 5 अगस्त तक 10वीं 12वीं के रिजल्ट की घोषणा की उम्मीद जताई गई है।

हालांकि उम्मीद जताई जा रही है कि पहले 12वीं के परिणाम की घोषणा होगी। जिससे छात्रों को कॉलेज में प्रवेश लेने में किसी भी तरह की दिक्कत का सामना ना करना पड़े। 10वीं की पूरक परीक्षा 21 जून से शुरू होकर 2 जुलाई तक संचालित हुई थी। इंदौर जिले में अकेले 13 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे।

बता दें कि प्रदेश में पंचायतों और नगरीय निकाय चुनाव के बीच छात्रों के पूरक परीक्षा के मूल्यांकन प्रक्रिया को रोक दिया गया था। हालांकि माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा एक बार फिर से कॉपियों को चेक करने का कार्य शुरू कर दिया गया है। इससे पहले अधिकांश शिक्षक चुनावी ड्यूटी में लगे हुए थे। जिसके साथ ही मतगणना के बाद कॉपियों को चेक करने की प्रक्रिया शुरू की गई थी।