MP College : नए सिलेबस को लेकर मंत्री मोहन यादव का बड़ा फैसला, महाविद्यालय में होंगे लागू

उल्लेखनीय है कि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा इन सिलेबस को तैयार करने के लिए 350 से अधिक ऑनलाइन बैठक आयोजित की गई थी।

उच्च शिक्षा विभाग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) में 15 सितंबर से कॉलेजों को खोला (MP College Reopen)  जाएगा। प्रदेश में कॉलेज खुलने के बाद में शैक्षणिक सत्र में पाठ्यक्रम को एकीकृत करने की तैयारी की जा रही है। जिसको लेकर उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव (Mohan yadav) ने बड़ा ऐलान किया है। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि समस्त विश्वविद्यालय में नए शैक्षणिक सत्र में सभी पाठ्यक्रमों को एकीकृत किया जाएगा और इसे सभी महाविद्यालय में समान रूप से लागू किया जाएगा।

उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव (mohan yadav)  ने कहा कि नए शैक्षणिक सत्र से एकीकृत पाठ्यक्रम प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालयों एवं स्वशासी महाविद्यालय में समान रूप से लागू होगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) के तहत शैक्षणिक सत्र 2021 -22 में प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों एवं स्वशासी महाविद्यालय में एकीकृत पाठ्यक्रम लागू होगा। इसके तहत 79 विषयों के कोर्स सम्मिलित किए गए हैं।

Read More: 10 दिन का अल्टीमेटम देने वाले प्रभारी मंत्री के नरम रुख पर कांग्रेस का तंज -लगता है गड्ढों ने झटका दे दिया

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश विश्वविद्यालय अधिनियम 1973 के तहत 79 विषयों के केंद्रीय अध्ययन मंडलों का गठन किया गया। केंद्रीय अध्ययन मंडल द्वारा स्नातक स्तर के पाठ्यक्रम निर्धारण संबंधी कार्यवाही की गई है। विश्वविद्यालय क्षेत्राधिकार के महाविद्यालयों में 79 विषयों के अतिरिक्त संचालित अन्य विषयों के पाठ्यक्रम का निर्माण उच्च शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देशों के अनुरूप विश्वविद्यालय स्तर पर गठित अध्ययन मंडल द्वारा किया जाएगा।

केंद्रीय अध्ययन मंडल द्वारा तैयार एकीकृत पाठ्यक्रम प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालय एवं स्वशासी महाविद्यालय में समान रूप से लागू होगा। समस्त विश्वविद्यालयों एवं स्वशासी महाविद्यालय उच्च शिक्षा विभाग द्वारा जारी एकीकृत पाठ्यक्रम को यथावत स्वीकार करते हुए संबंधित विश्वविद्यालय एवं स्वशासी महाविद्यालय में गठित अध्ययन मंडल के माध्यम से स्थानीय आवश्यकताओं और विशेषज्ञता के आधार पर पाठ्यक्रम में 20 प्रतिशत वृद्धि कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा इन सिलेबस को तैयार करने के लिए 350 से अधिक ऑनलाइन बैठक आयोजित की गई थी।