MP School : राज्य शिक्षा केंद्र की बड़ी तैयारी, 1 से 8वीं तक के बच्चों को नए सत्र में मिलेगा लाभ, व्यवस्था पूरी

इसके लिए टेंडर भी जारी कर दिया गया है।

mp school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में MP School 1 से 8वीं तक के छात्रों के लिए महत्वपूर्ण सूचना है। दरअसल शासकीय स्कूल (MP Government School) में 1 से 8वीं तक के बच्चों को जल्द गणवेश (Dress) उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। बता दे कि छात्रों को दी जाने वाली स्कूल यूनिफॉर्म (School Uniform) को लेकर मध्य प्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग (MP Commission for Protection of Child Rights) द्वारा निरीक्षण किया गया था। जिसमें कई तरह की खामियां उजागर होने के बाद बाल आयोग के सदस्य बृजेश चौहान ने चिंता जताते हुए राज्य शिक्षा केंद्र (School Education centers) के संचालक को पत्र लिखा है।

दरअसल अपनी लिखे पत्र में बाल आयोग के सदस्य बृजेश चौहान ने कहा कि ग्रामीणों- शहरी क्षेत्रों में भी गणवेश के कपड़े में काफी कमी देखने को मिल गया। दरअसल कई बच्चों के गणवेश हल्के और कमजोर कपड़े सिले गए हैं। इतना ही नहीं आयोग के सदस्य ने कहा कि स्कूल गणवेश दिए जाने का उद्देश्य बच्चे स्कूल जाने के लिए प्रेरित हो।

Read More : नई भूमिका में पूर्व IAS, मीडिया ग्रुप एडिटर और कंट्री हेड की जिम्मेदारी संभालेंगे

स्कूल शिक्षा को सुदृढ़ करने स्कूल चले हम अभियान को सफल बनाने के लिए बच्चों को गणवेश सहित अन्य सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। ऐसे में उचित तरीके से नहीं सिले गई यूनिफॉर्म कहीं ना कहीं बच्चों में हताशा उत्पन्न करती है। यूनिफॉर्म की गुणवत्ता ही ना हो तो इससे बच्चों को काफी नुकसान हो सकता है। बाल आयोग के सदस्य ने अपनी लिखे पत्र में कहा कि यूनिफॉर्म की गुणवत्ता की जांच की जाए। जल्द से जल्द अच्छे कपड़े में व्यवस्थित सिलाई के साथ ड्रेस तैयार किया जाए। वही समय सीमा के अंदर छात्रों को गणवेश उपलब्ध कराया जाए।

बता दें कि राज्य शिक्षा केंद्र की तरफ से हर साल शासकीय स्कूल के 65 लाख छात्रों को दो ड्रेस उपलब्ध कराए जाते हैं। इसके लिए हर साल राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा ₹390 करोड़ रूपए खर्च किए जाते हैं। वहीं राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा इस वर्ष तैयार किए जा रहे ड्रेस की जिम्मेदारी स्व सहायता समूह को दी गई है। समूह द्वारा जुलाई में तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं नए सत्र 15 जून से शुरू होंगे। जिसके बाद जुलाई में बच्चों को नए गणवेश का वितरण किया जाएगा। इसके लिए टेंडर भी जारी कर दिया गया है।