MP School : 9वीं-12वीं के छात्रों के लिए शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, आदेश जारी

MP School: MP Board शिक्षा विभाग का मानना है कि अधिकांश छात्रों को करियर के विकल्प की जानकारी नहीं होती है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) के लोक शिक्षण संचालनालय (Directorate of Public Instruction) ने सभी स्कूलों (MP School) के लिए बड़ा फैसला लिया है। दरअसल अब से स्कूल (school) में 1 घंटे का कैरियर मार्गदर्शन(Carrer Councillng ) कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसीलिए जिला शिक्षा अधिकारी (DEO), मध्य प्रदेश, शहडोल के अधिकारी ने आदेश जारी किया। जिसके मुताबिक 20 दिसंबर से 24 दिसंबर तक प्रतिदिन 1 घंटे का कैरियर मार्गदर्शन छात्रों को उपलब्ध कराया जाएगा। MP Board 9वीं से 12वीं के छात्र कार्यक्रम का हिस्सा होंगे। इसके लिए शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। यह 2 शिक्षक प्रतिदिन छात्रों को विशेष का मार्गदर्शन करें और उन्हें जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

दरअसल जिला शिक्षा अधिकारी के द्वारा 18 दिसंबर को जारी हुए एक आदेश के मुताबिक MP Board 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए Carrer Councillng सप्ताह का आयोजन 20 दिसंबर से 24 दिसंबर तक किया जाएगा। इसमें उच्च माध्यमिक विद्यालय के नौवीं से 12वीं के छात्र कार्यक्रम के हिस्सेदार होंगे। साथ ही 2 शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का काम पूरा किया जा चुका है। यह जो शिक्षक कैरियर मार्गदर्शन का कार्य करेंगे।

दरअसल मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षा विभाग में बड़े बदलाव की तैयारी की जा रही है। इसके लिए करियर Councillng प्रशिक्षण दिया जाना शुरु किया गया है। इसके तहत अधिकांश विद्यार्थियों को करियर के विकल्पों की जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। शिक्षा विभाग का मानना है कि अधिकांश छात्रों को करियर के विकल्प की जानकारी नहीं होती है।

Read More : ओबीसी आरक्षण को लेकर वीडी के निशाने पर दिग्विजय और कमलनाथ 

वही छात्रों को कैरियर चुनने में कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। जैसे स्व जागरूकता का अभाव, संभावना के आधार पर देने वालों साथियों की राय/दबाव। इसके साथ ही जिस कोर्स अधिक बच्चे जा रहे हैं। उसके आधार पर कई बच्चे उसी कोर्स का चयन करते हैं। जिससे संबंधित जानकारी छात्रों को उपलब्ध करवाने अनिवार्य है।

प्रदेश के स्कूलों में करियर काउंसिल सप्ताह का उद्देश्य विद्यार्थियों को विषय की समझ और करियर के महत्व को समझाना। इसके साथ ही दसवीं के उपरांत से संबंधित निर्णय लेने के लिए सहायक पसंद के कैरियर विषय को चुनने में मदद करना। साथ ही विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी देने सहित व्यक्तित्व विकास, स्वयं के व्यवसाय और उद्यमशीलता का परिचय देना कैरियर सप्ताह का उद्देश्य है।

वही 7 दिन के इस कैरियर सप्ताह के दौरान विद्यार्थियों को विषय के चयन संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इसके साथ ही स्थानीय सफल व्यक्ति को आमंत्रित कर उसे विषय पर व्याख्यान कराया जा सकता है। वहीं दूसरे दिवस 20 मिनट के व्याख्यान के अलावा एक्टिविटी बेस्ट काम करवाए जा सकेंगे। इसके अलावा तीसरे दिवस पीपीटी प्रेजेंटेशन का कार्य करवाया जाएगा। चौथे दिवस उद्यम और उद्यमशीलता पर चर्चा के दौरान छात्रों को बिजनेस स्टार्टअप और बैंक लोन संबंधित अन्य जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी। पांचवे दिन छात्रों की समस्या निवारण उनसे फीडबैक लिया जाएगा।

MP School : 9वीं-12वीं के छात्रों के लिए शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, आदेश जारी