MPPEB: कांस्टेबल भर्ती परीक्षा को लेकर उम्मीदवारों ने उठाया विशेष कदम, इस महीने होंगे Exam!

MPPEB

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) में 4 साल से MPPEB कॉन्स्टेबल की भर्ती (constable recruitment) नहीं हुई है। वहीं 4000 पदों पर वैकेंसी (vacancy) निकलने के बाद बार-बार MPPEB द्वारा परीक्षा स्थगित कर रहा है। वहीँ स्थगित परीक्षा के बीच अब तक 4000 से अधिक युवाओं ने आवेदन देकर परीक्षा कराने की मांग की है।

दरअसल मध्य प्रदेश के 12 लाख से अधिक आवेदक MPPEB की कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में 2017 में पुलिस कांस्टेबल की परीक्षा आयोजित की गई थी। उसके बाद से व्यापम द्वारा आयोजित की गई है। हालांकि बीते साल 4000 पदों पर मध्य प्रदेश सरकार (MP Government) ने कॉन्स्टेबल भर्ती की परीक्षा के लिए आवेदन मांगे थे। जिसके बाद एक पद के लिए 317 दावेदार अब कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं।

Read More : कांग्रेस विधायक के बिगड़े बोल, आदिवासियों को कहा शराबी, भाजपा ने किया हमला

वही करुणा की दूसरी लहर को देख कर MPPEB 1 मार्च फिर अप्रैल और अब नवंबर में परीक्षा कराने का शेड्यूल जारी किया है। दरअसल 6 मार्च को परीक्षा की तिथि घोषित की गई थी लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बाद 6 अप्रैल को एक Schedule जारी किया गया। जिसके मुताबिक MPPEB की परीक्षा अक्टूबर-नवंबर में होने की संभावना जताई गई है। वहीं आवेदकों का कहना है कि यदि अक्टूबर-नवंबर में भी कोरोना अपने चरम पर पहुंचता है तो एक बार फिर से परीक्षा की तिथि आगे बढ़ सकती है।

जिसके बाद 4000 से अधिक आवेदक ने आवेदन करके जल्द से जल्द परीक्षा कराने की मांग की है इस मामले में आवेदकों का कहना है कि MPPSC सहित अन्य परीक्षाएं हो रही है तो फिर कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा में क्या दिक्कत है। परीक्षा कराने के लिए 52 जिलों में अब तक 4000 से ज्यादा आवेदन सरकार के पास भेजे जा चुके हैं। वहीं आवेदकों का कहना है कि यूपीएससी की परीक्षा जब हो सकती है तो MPPEB परीक्षा क्यों नहीं ले रहा।

बता दें कि MPPEB कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा अक्टूबर नवंबर महीने में होगी जबकि दिसंबर महीने में प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित की जाएगी कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में इंदौर भोपाल सहित 16 शहरों में परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। मध्य प्रदेश में 4000 पदों पर 15 फरवरी को आवेदन की प्रक्रिया पूरी की गई थी। जिसके बाद से परीक्षा की तिथि किसी न किसी कारणवश लगातार बढ़ती जा रही है।