राष्ट्रीय खेल दिवस आज, पीएम मोदी ने इस तरह किया याद मेजर ध्यानचंद को

जब तक हॉकी में पदक नहीं मिलता भारत का कोई भी नागरिक विजय का आनंद नहीं ले सकता है

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद (Mejor Dhyanchand) की जन्म जयंती आज पूरा देश राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मना रहा है।  जगह जगह आयोजन हो रहे है। मेजर ध्यानचंद को श्रद्धांजलि दी जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी अपने “मन की बात” कार्यक्रम में मेजर ध्यानचंद को श्रद्धांजलि दी।  उन्होंने कहा कि आज, जब हमें देश के नौजवानों में हमारे बेटे-बेटियों में, खेल के प्रति जो आकर्षण नजर आ रहा है, माता-पिता को भी बच्चे अगर खेल में आगे जा रहे हैं तो खुशी हो रही है, ये जो ललक दिख रही है न मैं समझता हूँ, यही मेजर ध्यानचंद जी को बहुत बड़ी श्रद्धांजलि है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “मन की बात” कार्यक्रम में मेजर ध्यानचंद को याद किया।  विश्व में भारत की हॉकी का परचम लहराने वाले मेजर ध्यानचंद के खेल कौशल को याद करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सबको पता है आज मेजर ध्यानचंद जी की जन्म जयंती है और हमारा देश उनकी स्मृति में इसे राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाता भी है।

ये भी पढ़ें – बीजेपी विधायक बोले- “सरकार को खत्म कर देगा बिजली विभाग”

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं सोच रहा था कि शायद, इस समय मेजर ध्यानचंद जी की आत्मा जहां भी होगी, बहुत ही प्रसन्नता का अनुभव करती होगी। क्योंकि दुनिया में भारत की हॉकी का डंका बजाने का काम ध्यानचंद जी की हॉकी ने किया था और चार दशक बाद, क़रीब-क़रीब 41 साल के बाद, भारत के नौजवानों ने, बेटे और बेटियों ने हॉकी के अन्दर फिर से एक बार जान भर दी।

ये भी पढ़ें – आप भारत घूमना चाहते हैं? तो उठाइये IRCTC की इस सेवा का लाभ, रहना खाना सब फ्री

आज, जब हमें देश के नौजवानों में हमारे बेटे-बेटियों में, खेल के प्रति जो आकर्षण नजर आ रहा है, माता-पिता को भी बच्चे अगर खेल में आगे जा रहे हैं तो खुशी हो रही है, ये जो ललक दिख रही है न मैं समझता हूँ, यही मेजर ध्यानचंद जी को बहुत बड़ी श्रद्धांजलि है।

ये भी पढ़ें – Video : मंडप में गुटखा चबा रहा था दूल्हा, दुल्हन ने जड़े थप्पड़, वीडियो वायरल

पीएम मोदी ने कहा कि और कितने ही पदक क्यों न मिल जाएं, लेकिन जब तक हॉकी में पदक नहीं मिलता भारत का कोई भी नागरिक विजय का आनंद नहीं ले सकता है और इस बार ओलंपिक में हॉकी का पदक मिला, चार दशक के बाद मिला। आप कल्पना कर सकते हैं मेजर ध्यानचंद जी के दिल पर, उनकी आत्मा पर, वो जहां होंगे, वहां, कितनी प्रसन्नता होती होगी।