ओलंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास, विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में हासिल किया सिल्वर मेडल

साथ ही नीरज चोपड़ा ने भारत के 19 साल के सूखे को समाप्त करते हुए इस टूर्नामेंट में मेडल हासिल किया है।

खेल, डेस्क रिपोर्ट। ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीत इतिहास रचने के बाद चैंपियन नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने एक बार फिर से इतिहास रचा है। दरअसल विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप (World Athletics Championships) के जैवलिन थ्रो में सिल्वर मेडल(Silver Medal) जीतने के साथ ही नीरज चोपड़ा इस इवेंट में मेडल जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। दरअसल पहले राउंड में फेल होने के बाद चैंपियन नीरज चोपड़ा ने शानदार वापसी की और 88.13 मीटर के अपने सर्वश्रेष्ठ स्थलों के साथ उन्होंने सिल्वर मेडल को अपने नाम कर लिया। साथ ही नीरज चोपड़ा ने भारत के 19 साल के सूखे को समाप्त करते हुए इस टूर्नामेंट में मेडल हासिल किया है।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने नीरज चोपड़ा की जीत पर उन्हें बधाई दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे सबसे प्रतिष्ठित एथलीटों में एक नीरज चोपड़ा के द्वारा एक बड़ी उपलब्धि हासिल की गई है। ऐतिहासिक रजत पदक जीत पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं। ये समय भारतीय खेलों के लिए विशेष क्षण है।

नीरज चोपड़ा की इस जीत पर केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजीजू (Kiren Rijiju) ने भी उन्हें बधाई दी है। किरण रिजीजू ने कहा कि ओरेगॉन में वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीतकर नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर इतिहास रच दिया है। वह 2003 में लॉन्ग-जम्पर अंजू बॉबी जॉर्ज के कांस्य के बाद विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने वाले पहले व्यक्ति और दूसरे भारतीय बन गए।

Read More : कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, अब जुलाई में देनी होगी यह परीक्षा, ये रहेंगे नियम, निर्देश जारी

मैच अपडेट

मैच शुरू होने के पहले मुकाबले में ही नीरज का पहला थ्रो फाउल रहा था। हालांकि पहले थ्रो के फाउल होने के बाद नीरज चोपड़ा ने शानदार वापसी की और दूसरे प्रयास में 82.39 मीटर दूर थ्रो किया। हालांकि नीरज चोपड़ा के दूसरे प्रयास पर ग्रेनाडा के एंडरसन ने 90.21 की दूरी तय की। साथ ही एंडरसन, चोपड़ा से काफी आगे निकल गए। हालांकि नीरज चोपड़ा ने अपने तीसरे प्रयास में 86.37 मीटर दूर भला फेंका। वहीं चौथे प्रयास में 88.13 मीटर का थ्रो करने के साथ ही नीरज चोपड़ा ने अपने लिए सिल्वर मेडल को पक्का कर लिया। नीरज चोपड़ा का पांचवा-छटवां थ्रो फाउल रहा, जिससे नीरज चोपड़ा को सिल्वर के साथ संतुष्ट होना पड़ा।

वही एंडरसन पीटर्स ने फाइनल के शुरुआती दो थ्रो लगातार 90 से ज्यादा मीटर के किए। फाइनल में अपना बेस्ट थ्रो 90.57 के साथ एंडरसन ने गोल्ड मेडल पर अपना अधिकार कर लिया। वही एंडरसन की बात करें तो इसी साल 2019 में एंडरसन पीटर्स ने कमाल का थ्रो करते हुए 93.07 मीटर दूर वाला फेंका था।

पीटर्स वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर वन

इससे पहले ओलंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा ने क्वालीफाइंग राउंड में 88.39% मीटर का जैवलिन थ्रो किया था। जिसके साथ उन्होंने फाइनल में अपनी जगह सुनिश्चित कर ली थी। वही नीरज चोपड़ा को गोल्ड मेडल का दावेदार माना जा रहा था। हालांकि उनका मुकाबला ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स से हुआ। एंडरसन की वजह से एक बार पहले भी नीरज चोपड़ा को निराशा मिली थी। बता दे की पीटर्स वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर वन पर है जबकि नीरज चोपड़ा पुरुष जैवलिन थ्रो रैंकिंग मामले में विश्व में चौथे नंबर पर बने हुए हैं।

नीरज चोपड़ा-मेडल 

नीरज चोपड़ा की बात करें तो ओलंपिक गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने के साथ ही वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में उन्होंने सिलवर अपने नाम किया। इसके अलावा एशियन गेम में उनके नाम गोल्ड मेडल का रिकॉर्ड है जबकि कॉमनवेल्थ गेम में भी नीरज चोपड़ा ने गोल्ड मेडल हासिल किया है। हालांकि एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी नीरज चोपड़ा ने शानदार प्रदर्शन दिखाते हुए गोल्ड अपने नाम किया था जबकि u20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी उन्होंने स्वर्ण पर अपना कब्जा जमाया था। वही नीरज चोपड़ा का अगला मुकाबला बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेल से होगा। जहां भारत के लिए सचमुच एक बड़ी चुनौती होगी। वही नीरज चोपड़ा जैवलिन थ्रो में भारत की अगुवाई करेंगे।