MP Startup Policy 2022: PM Modi का MP को तोहफा, स्टार्टअप नीति लांच, स्टार्टअप कैपिटल से हासिल होगा नया मुकाम

स्टार्टअप कॉन्क्लेव में सीएम ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि ये हमारा सौभाग्य है कि आज देश का नेतृत्व पीएम नरेंद्र मोदी के हाथ मे है

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्य प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने सहित प्रदेश को स्टार्टअप कैपिटल (startup capital) के लिए स्टार्टअप नीति (MP Startup policy 2022) लांच की गई है। दरअसल पीएम मोदी (PM Modi) आज इंदौर जिले में मध्य प्रदेश स्टार्टअप कॉन्क्लेव (Madhya Pradesh Startup Conclave) में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने स्टार्टअप नीति का शुभारंभ किया। वहीं उन्होंने कई महत्वपूर्ण बातें भी कहीं। पीएम मोदी ने कहा कि भारत विकसित देशों की तरह तेजी से आगे बढ़ रहा है। स्टार्टअप नीति से नौजवानों को बड़ा लाभ मिलेगा। वह स्टार्टअप के क्षेत्र में युवा नई उड़ान भरेंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में 800 से अधिक स्टार्ट ऑफ स्पोर्ट्स से जुड़े हुए हैं। जिस प्रकार से भारत में स्पोर्ट्स का कल्चर बढ़ा है। इस सबके लिए अनेक संभावनाएं पैदा हुई है। सफलता को एक नई गति देने के लिए स्टार्टअप पॉलिसी आवश्यक है। इसके अलावा मोबाइल गेमिंग के मामले में भी टॉप 5 देशों में शामिल है। गेमिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट में तेजी से बढ़ोतरी देखी गई है। 40% से अधिक गेमिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट से एनीमेशन, विजुअल इफैक्ट्स जैसे इंडस्ट्री में भी तेजी से इजाफा देखा जा रहा है।

MP Startup Policy 2022: PM Modi का MP को तोहफा, स्टार्टअप नीति लांच, स्टार्टअप कैपिटल से हासिल होगा नया मुकाम

पीएम मोदी ने कहा कि अभी से कुछ लोगों को भ्रम होता है कि स्टार्टअप मैं तो कंप्यूटर से शुरू हुए नौजवानों का कोई खेल या कारोबार चल रहा है। जबकि कुछ टेक्निकल बोर्ड के गलियारों से निकलकर अब सामान्य भारतीय युवा के सपने पूरे करने के लिए इसे सशक्त माध्यम के तौर पर देखा जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश की स्टार्टअप नीति के तहत स्टार्टअप इनक्यूबेटर को वित्तीय सहायता केंद्र सरकार द्वारा दी गई है।

इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आयोजित एमपी स्टार्ट अप प्रोग्राम के दौरान जैसे ही देश के पीएम मोदी बिग स्क्रीन पर नजर आए वैसे ही पूरा हाल जोश से भर गया। इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश स्टार्टअप नीति का वर्चुअल शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने स्टार्टअप कर कामयाबी की ऊंचाई छूने वाले युवाओं से बातचीत की और उनके सवालों के जबाव भी अपने अंदाज में दिए वही पीएम मोदी ने भी युवाओं से स्टार्टअप की चुनौतियों से लेकर कामयाबी तक के सफर के संबंध में जानकारी हासिल की।

Read More : शीतकालीन सर्वेक्षण की विस्तृत रिपोर्ट पेश, MP में पक्षियों की मिली 251 प्रजातियां

पीएम ने सबसे पहले शॉप किराना स्टार्टअप वाले तनु सारस्वत से बात की। पीएम ने उनसे उनका बैकग्राउंड पूछा। उन्होंने पूछा आपको किससे प्रेरणा मिली। तब तनु ने पूरी जर्नी को पीएम के सामने रखा। एमपी स्टार्टअप लांचिंग के पहले मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी युवाओं को उत्साहित कर स्टार्टअप की दुनिया मे इंदौर एक नया मुकाम हासिल करेगा ये भरोसा दिलाया।

स्टार्टअप कॉन्क्लेव में सीएम शिवराज ने कहा क मप्र के सैकड़ों कॉलेजों में 5 लाख से ज्यादा नौजवान सीधे महाविद्यालयो से जुड़े है। उन्होंने कहा मेरे भांजों और प्यारी भांजियों मैं कहता हूं – मेरा बेटा-बेटियों तुम मुझे आईडिया दो मैं तुम्हें अवसर दूंगा। हमारे पास योग्यता है, इनोवेटिव आईडिया है। सही राह मिल जाए तो इंदौर कमाल करेगा। उन्होंने कहा जिस तरह से गेंहू के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने पंजाब को पीछे छोड़ा है

उसी तर्ज पर इंदौर स्टार्टअप के क्षेत्र में बैंगलोर को भी पीछे छोड़ देगा और ये चैलेंज समूचे प्रदेश को स्वीकार है। यह हमारा सौभाग्य है। आज देश का नेतृत्व पीएम मोदी के हाथ में है। शिवराज ने मध्यप्रदेश में स्टाम्प ड्यूटी कम करने की घोषणा की। एमपी में दिल्ली से कम ही स्टाम्प ड्यूटी लगेगी। शिवराज ने कहा- मध्यप्रदेश स्टार्टअप पोर्टल लॉन्च किया जा रहा है। हम इंदौर, भोपाल समेत अन्य शहरों को स्टार्टअप हब के रूप में स्थापित करने का प्रयास करेंगे। हम एक जिला एक उत्पाद पर काम कर रहे हैं।

इसके अलावा स्टार्टअप कॉन्क्लेव में सीएम ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि ये हमारा सौभाग्य है कि आज देश का नेतृत्व पीएम नरेंद्र मोदी के हाथ मे है और मैं गर्व के साथ कहता हूं माननीय नरेंद्र मोदी ने हिंदुस्तान को दुनिया का सिरमौर बना दिया है। फिलहाल, दुनिया मे स्टार्टअप के क्षेत्र में भारत का तीसरा स्थान है वही देश के पीएम इस क्षेत्र में युवाओं को सर्वश्रेष्ठ योगदान देने के लिए सतत सहयोग कर रहे है वही अब मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जहां स्टार्टअप को लेकर सरकार की अपनी अलग नीति है जिसके परिणाम आने वाले समय मे देखे जा सकते है।