सूर्य से निकल रही प्रचंड सौर ज्वाला (solar flare) ! नासा वेधशाला ने ली घटना की तस्वीर

नासा के सोलर डायनेमिक्स ऑब्जर्वेटरी जो लगातार सूर्य को देखती है, (SDO) ने 5 जनवरी, 2023 को सूर्य से निकली एक शक्तिशाली सौर ज्वाला (solar flare)की एक फोटोग्राफ ली।

Solar flare: सौर ज्वालाएं (solar flare) सूर्य की सरफेस से निकलने वाले रेडिएशन के शक्तिशाली विस्फोट हैं। वे सूर्य के वातावरण में स्टोर्ड मैग्नेटिक एनर्जी के अचानक जारी होने के कारण होते हैं। नासा ने इस फ्लेयर को एक्स1.2 फ्लेयर (X1.2 flare) के रूप में क्लासिफाइड किया, जिसमें (एक्स-क्लास) सबसे एक्यूट फ्लेयर को दर्शाता है।सूर्य से निकल रही प्रचंड सौर ज्वाला (solar flare) ! नासा वेधशाला ने ली घटना की तस्वीर

 फोटोग्राफ एक्सट्रीमअल्ट्रावायलेट लाइट का एक subgroup दिखाती है जो फ्लेयर में एक्सट्रीम हीट कंटेंट को एक्सपोज़ करती है और जिसे AIA 171 नारंगी रंग (orange color) में रंगा जाता है। सोलर फ्लेयर्स मिनटों से लेकर घंटों तक कहीं भी रह सकते हैं और पृथ्वी पर कई तरह के प्रभाव पैदा कर सकते हैं, जिसमें रेडियो ब्लैकआउट, पावर आउटेज और सॅटॅलाइट कम्युनिकेशन में  डिस्टर्बेंस शामिल हैं।

SDO क्या है?

नासा के एसडीओ solar dynamics observatory को सोलर वोलैटिलिटी के कारणों और पृथ्वी पर इसके प्रभावों को समझने के लिए डिज़ाइन किया गया है। 2010 में लॉन्च होने के बाद से, मिशन ने सूर्य के चुंबकीय क्षेत्र मैग्नेटिक फील्ड पर मूल्यवान डेटा प्रदान किया है, जो यह समझने के लिए महत्वपूर्ण है कि सूर्य पृथ्वी की क्लाइमेट को कैसे प्रभावित करता है। यह अंतरिक्ष यान उपकरणों के एक सुइट से फर्निश्ड है जो इसे विजिबिलिटी से लेकर एक्सट्रीम अल्ट्रावायलेट तक कई वेवलेंथ में सूर्य का इंस्पेक्शन करने की अनुमति देता है।

और भी जानने के लिए

यह देखने के लिए कि इस तरह का स्पेस वेदर पृथ्वी को कैसे प्रभावित कर सकता है, कृपया NOAA के स्पेस वेदर फोरकास्ट सेंटर , यू.एस. पर निश्चित रूप से जाएं।