कांग्रेस में शुरू होगा बैठकों का दौर, आगामी उपचुनाव के लिए इन प्रत्याशियों के नाम पर लगेगी मुहर!

इसके लिए कांग्रेस नीतियां तैयार कर सकती है।

कांग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pardesh) में सोमवार से कांग्रेस (congress) के मैराथन बैठकों (marathon meeting) का दौर शुरू होगा। इसके लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ (kamalnath) सोमवार को दिल्ली से भोपाल वापस आ रहे हैं। बता दे कांग्रेस हाईकमान (congress high command) के बुलावे के बाद कमलनाथ दिल्ली पहुंचे थे।

इधर खंडवा लोकसभा चुनाव (khandwa loksabha byelection) सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा में उपचुनाव होने हैं। जिसके लिए प्रत्याशियों के चयन, चुनाव तैयारियों को लेकर कांग्रेस अब एक्शन के मूड में आ रही है। वहीं सोमवार से 4 दिनों तक चलने वाले इस मैराथन बैठक में आगामी चुनाव (upcoming election) को लेकर चर्चा की जाएगी। सूत्रों की माने तो कमलनाथ गुरुवार तक भोपाल में रहेंगे। इस दौरान कोर ग्रुप के पदाधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जिला अध्यक्षों से भी चर्चा करेंगे। वही प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ अगले सप्ताह शुक्रवार और शनिवार को छिंदवाड़ा (chhindwada) में रह सकते हैं।

खंडवा लोकसभा उपचुनाव की बात करें तो इसके लिए प्रत्याशी के नाम पर लगभग सहमति बन चुकी है। दरअसल कांग्रेस हाईकमान और मध्य प्रदेश कांग्रेस (mp congress) की तरफ से पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव को उपचुनाव में प्रत्याशी बनाया जा सकता है। पृथ्वीपुर विधानसभा उपचुनाव में पूर्व मंत्री ब्रजेंद्र सिंह राठौर के बेटे नितेंद्र सिंह राठौड़ को प्रत्याशी बनाए जाने की चर्चा हैं।

Read More: सरकार ने कर्मचारियों को दिया तोहफा, मिलेगा एडिशनल अलाउंस, जानें डिटेल्स

वही जोबट से पूर्व मंत्री सुलोचना रावत के अलावा विक्रांत भूरिया और मुकेश पटेल के नाम सामने आ रहे हैं। हालांकि जोबट और रंगों से प्रत्याशी का नाम का चयन फिलहाल पूरा नहीं किया गया है। इस संबंध में कमलनाथ के नेतृत्व में प्रत्याशियों के नाम का चयन किया जाएगा।

मध्य प्रदेश में जल्द ही उपचुनाव के अलावा नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव होने हैं। जिसको लेकर पार्टी जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से भी जुड़ कर आम जनता तक पहुंचने की पूरी कोशिश करेगी। आम निर्वाचन चुनाव में पार्टी चाहती है कि विभाग और प्रकोष्ठ के प्रमुख जमीन पर उतर संगठन को मजबूत करने का कार्य करें। इसके लिए कांग्रेस नीतियां तैयार कर सकती है।