लंबी यात्रा पर जाने से पहले जरूर करें ये उपाय, टल सकती है अनहोनी, सुखद होगी यात्रा

घर से निकलने से पहले भगवान गणेश को नमन करें।  उसके बाद अपने ईष्ट देव का स्मरण करें. उसके बाद ही घर से निकलें। 

लाइफस्टाइल, डेस्क रिपोर्ट।  Travel Astrology के तहत लंबी यात्रा (journey) पर घर से निकलने से पहले सभी सुखद यात्रा की कामना करके निकलते हैं। दही शक्कर खाकर घर से निकलने का रिवाज फॉलो किया जाता है। बड़ों के पैर छूकर सुखद (happy journey) यात्रा का आशीर्वाद लिया जाता है। भगवान के दर्शन भी किए जाते हैं। यात्रा पर निकलने से पहले जो काम आप अनायास करने लगते हैं।

दरअसल ये हमारे पुराने संस्कार हैं और, वास्तु में भी दर्ज है। वास्तुशास्त्र में लंबी दूरी की यात्रा को सुखद बनाने के बहुत से टिप्स दिए गए हैं। चलिए जानते हैं यात्रा पर जाने से पहले क्या क्या करना सुखद यात्रा का योग बढ़ा देता है।

गायत्री मंत्र

यात्रा शुरू करने से पहले गायत्री मंत्र का जाप जरूर करें. ऐसा करते समय मां से यात्रा के सुखद होने की कामना भी जरूर करें।

मौसम की बुराई

जिस जगह यात्रा करने जा रहे हैं वहां के मौसम या प्राकृतिक वातावरण की बुराई बिलकुल न करें।

Read More : कर्मचारियों को सरकार का बड़ा तोहफा, मानदेय-वेतन में वृद्धि का ऐलान, 20 से 30 हजार तक बढ़कर आएगी राशि

ये दिखना शुभ है

यात्रा के दौरान या निकलते समय आपको गहने जेवर से लदी सुहागन स्त्री दिखती है तो ये शुभ यात्रा का संकेत है। इसके अलावा अपनी नन्हीं बिछिया को दूध पिलाती हुई कोई गाय दिखे तो इसे भी शुभ ही माना जाता है। दूध, दही, चावल, फल या फूल का दिखना भी शुभ यात्रा का ही संकेत माना जाता है।

गणेशजी को नमन

घर से निकलने से पहले भगवान गणेश को नमन करें।  उसके बाद अपने ईष्ट देव का स्मरण करें. उसके बाद ही घर से निकलें।

कपूर का धुआं करें

वास्तु के अनुसार घर से निकलने से पहले पूरे घर में कपूर जलाकर उसका धुआं करना चाहिए। इसके अलावा सरसों के तेल का दिया जलाना चाहिए। जिसमें लौंग भी डली होना चाहिए।  एक बार आईना जरूर देखें। फिर ही घर से बाहर निकलें।

यात्रा पर रखें इन बातों का ध्यान

यात्रा के दौरान जहां भी ठहरें वहां ऐसे सोएं कि आपका मुंह उत्तर दिशा की ओर न हो। कोशिश करें एक जगह पर तीन या पांच दिन से ज्यादा न रूकना पड़े।

हनुमानजी के दर्शन

अगर किस धार्मिक यात्रा पर निकलने वाले हों तो उससे पहले हनुमान मंदिर जाकर दर्शन करें और भगवान को चोला जरूर चढ़ाएं।