लॉकडाउन के बीच 71 जमाती गिरफ्तार, 35 को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

भोपाल।

दो दिन पहले राजधानी(capital) में तेजी से फैले कोरोना(corona) संक्रमण की वजह जिला प्रशासन(administration) ने ढूंढ ली थी। जहाँ जांच में पाया गया था कि भोपाल में संक्रमण जमातियों की वजह से फैला है। वहीँ जिला प्रशासन ने जांच की एक विस्तृत रिपोर्ट मुख्य सचिव व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(shivraj singh chouhan) को भी सौंपी थी। जिसके बाद बड़ी कार्यवाही करते हुए राजधानी पुलिस ने 71 जमातियों को गिरफ्तार किया है। ये सभी वो जमाती हैं जो दिल्ली मरकज या फिर देश के दूसरे मरकजों में शामिल हुए थे। इसी के साथ भोपाल के भी कुछ जमातियों को गिरफ्तार किया गया है।

दरअसल शुक्रवार को पुलिस ने 35 जमातियों को गिरफ्तारी के बाद कोर्ट में पेश किया था। जहाँ सुनवाई के बाद जज ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। वहीँ इससे पहले कोरोना के ख़िआलफ अपनी सुरक्षा ध्यान में रखते हुए कोर्ट ने सुनवाई बहरी कंपाउंड में की थी। बता दें कि गिरफ्तार हुए जमातियों में से 30 जमाती विदेशी हैं। जबकि बाकि अन्य देश के असम अथवा फिर दूसरे हिस्सों के हैं। वहीँ 36 अन्य जमातियों के वीजा की जांच की जा रही है।

इससे पहले बुधवार को कलेक्टर(collector) तरुण पिथोड़े के नेतृत्व में एडीशनल एसपी और अन्य तकनीकी सहायकों की गठित टीम ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जांच रिपोर्ट सौंपी थी। भोपाल में बढ़ते कोरोना संक्रमण की शुरुआत कहाँ से और किसके कारण हुई। इसकी जांच के लिए इसके जांच के लिए कलेक्टर(collector) तरुण पिथोड़े के नेतृत्व में एडीशनल एसपी और अन्य तकनीकी सहायकों की टीम गठित की गयी थी। जिसमे जांच में पाया गया था कि भोपाल में संक्रमण जमातियों की वजह से फैला है। वहीँ इस जांच में तीन तरह से कांटेक्ट की ट्रेसिंग हुई । पहली जांच सीधे संपर्क में आने वाले लोग को लेकर, दूसरा पॉजिटिव व्यक्तियों ने जिनके नाम बताए और तीसरा अन्य स्रोत के जरिये विभाग के लोगों से पूछताछ करके ये जांच की गयी है।