मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार के एक साल में बढ़े 7 लाख बेरोज़गार

4679

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने एक साल पूरा कर लिया है लेकिन इस एक साल में प्रदेश में बेरोज़गारों की संख्या भी बढ़ गई है। यह जानकारी विधानसभा में कांग्रेस सरकार ने दी है। दरअसल, भाजपा विधायक भूपेंद्र सिंह ने सरकार से जानकारी मांगी थी कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार के एक साल में कितने बेरोज़गार बढ़ें हैं। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सदन में जानकारी देते हुे कहा कि, ‘अक्टूबर 2018 में पंजीकृत शिक्षित बेरोजगारों की संख्या 20,77,222 थी, जबकि 2019 में इसी महीने में यह संख्या बढ़कर 27,79,725 हो गई, जिससे बेरोजगार युवाओं की संख्या 70,2503 हो गई’। सिंह ने सवाल किया था कि बेरोज़गारों की संख्या कितनी हुई है और क्या सरकार ने सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में रोजगार मुहैया करवाया है। करवाया है तो कितने लोगों को रोजगार मिला है। जिसके जवाब में सीएम ने बताया कि प्रदेश में अक्टूबर 2018 से अक्टूबर 2019 में सात लाख बेरोज़गार बढ़ गए हैं। उन्होंने यह भी बताया कि एक साल में कई कौशल प्रशिक्षण केंद्र भी खोले गए हैं। जिनमें से 7722 प्रशिक्षुओं को प्रइवेट क्षेत्र में रोजगार मुहैया करवाया गया है। कई स्थानों पर जॉब फेयर का आयोजन किया गया जिसमें 17,506 को प्लेसमेंट के लिए चुना गया। इसके अलावा, आईटीआई पास छात्रों के लिए जिला स्तर पर प्लेसमेंट ड्राइव का आयोजन किया गया था, जिसमें 2520 छात्रों का चयन निजी कंपनियों द्वारा किया गया था।

मुख्यमंत्री के जवाब से असंतुष्ट होकर भाजपा विधायक सिंह ने कहा कि सरकार द्वारा दी गई जानकारी से अभी भी यह साफ पता नहीं चल सका है कि 20,026 में से चयनित युवाओँ से कितनों को रोज़गार मिला है। जहां तक सरकारी नौकरियों का सवाल है, उत्तर में कहा गया है कि व्यावसायिक परीक्षा मंडल के माध्यम से कौशल विकास निदेशालय में ग्रेड 3 पद पर सात लोगों को नियुक्त किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here