नही लगेगा इंदौर में लॉक डाउन, सख्ती बरतेगा प्रशासन

इंदौर।आकाश धोलपुरे|  एमपी के मिनी मुंबई कहे जाने वाले इंदौर में फिलहाल लॉकडाउन नही लगाया जाएगा, हालांकि पहले से ज्यादा सख्ती प्रशासन द्वारा की जाएगी। सोमवार को इंदौर में क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप याने आपदा प्रबंधन समूह की बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया जिसमें सभी दोनों दलों के प्रमुख जनप्रतिनिधियों ने सामुहिक निर्णय लेकर सख्ती के लिए प्रशासन को खुली छूट दे दी है ताकि शहर में संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके। बैठक में निर्णय लिया गया है कि शहर में रात 8 बजे बाजार बंद किए जाएंगे और वही शहर के फार्म हाउस और होटल जैसी जगहों पर अनाधिकृत रूप से पार्टी करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा बैठक में ये बात भी सामने आई है कि अगर स्थिति में सुधार नही आया तो सोमवार की ही तरह बैठक कर लॉकडाउन लगाया जा सकता है वही आने वाले शनिवार तक 1 बार फिर रिव्यू किया जाएगा इसके बाद संक्रमण की स्थिति को देख कोई फैसला लिया जायेगा यदि स्थिति नही संभलती है तब इंदौर में लॉक डाउन लगाया भी जा सकता है इस बात के संकेत इंदौर सांसद शंकर लालवानी ने मीडिया के सामने दिए है।

कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक यह भी तय किया गया है कि कल से आगामी 3 दिनों तक चोइथराम मंडी, सिंधी कॉलोनी और जेल रोड मार्केट को बंद रखा जाएगा और वहां के व्यापारियों का ओरिएंटेशन कर उन्हें तमाम एतियाहत बरतने की सलाह भी दी जाएगी। वही 56 दुकान पर अब लोग चटखारे नही ले सकेंगे वहां से सिर्फ ऑर्डर पर होम डिलेवरी की अनुमति रहेगी। वही शहर के मार्केट में दुकानें अब राइट और लेफ्ट फार्मूले के तहत अलग – अलग दिन एक-एक साइड से ही खुलेगी जिसका सीधा मतलब है कि ऑड इवन सिस्टम अब नही लागू होगा। इसके अलावा रात 8:00 बजे तक दुकाने व मार्केट बंद हो जाएगा और 9 बजे से कर्फ्यू का पालन सख्ती से कराया जाएगा। राजनीतिक आयोजनों में भी सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क ना लगाने पर कार्रवाई की जाएगी जिसकी चर्चा भी बैठक में की गई है।

जिला प्रशासन को इसको लेकर पूरे अधिकार दिए गए हैं, इसमें निगम और पुलिस प्रशासन भी साथ रहेंगे। रविवार को शहर में लॉकडाउन बरकरार रहेगा वही आगे की स्थितियां बिगड़ी तो फिर लॉकडाउन की ओर शहर जा सकता हैं। बैठक में डीआईजी, कलेक्टर, सांसद व अन्य जनप्रतिनिधियों ने सामूहिक रूप से यह निर्णय लिए हैं। बैठक में इंदौर में सख्ती बढाने के निर्णय लिए गए यदि सख्ती के बाद भी हालात नही सुधरे तो लॉकडाउन पर विचार किया जाएगा।

लॉकडाउन के पक्ष में नही कैलाश

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने रविवार रात मीडिया से चर्चा में कहा- मैं शहर में दोबारा पहले जैसे लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हूं। इसके बजाय उन लोगों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए जो कि गाइड लाइन का मखौल उड़ा रहे हैं। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि शहर को बर्बाद होने से बचाएं।

बता दे कि अब तक 5352 संक्रमित पाए गए हैं। जिनमें से 4017 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, इस वायरस ने 269 लोगों की जान भी ली है। अभी जिले में 1066 एक्टिव मरीज हैं, जबकि होटल, गार्डन में क्वारेंटाइन 4992 लोग डिस्चार्ज किए जा चुके हैं।