जूनियर डॉक्टर्स के बाद अब नर्सिंग स्टाफ ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, 10 जून के करेंगे आंदोलन

नर्सिंग कर्मचारियों ने सरकार को हड़ताल की चेतावनी दी है। साथ ही मांग पूरी नहीं होने पर 24 जून से काम करने की बात भी कही है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में जूनियर डॉक्टर्स (junior doctors) की हड़ताल खत्म हुए एक ही डिंब हुआ था। और अब नर्सिंग स्टाफ (nursing staff) आंदोलन के मूड में आ गया है। नर्सिंग कर्मचारियों ने सरकार को हड़ताल की चेतावनी दी है। साथ ही मांग पूरी नहीं होने पर 24 जून से काम करने की बात भी कही है।

यह भी पढ़ें…गुना : महिला की करंट लगने से मौत, पति और बेटा भी झुलसे

नर्सिंग स्टाफ ने 10 जून से आंदोलन करने की बात की है। साथ ही उनका कहना है कि अगर उनकी मांगों को नहीं माना गया तो सभी नर्सिंग कर्मचारी 24 जून से सेवा देना बंद कर देंगे। सभी नर्सिंग स्टाफ 8 मांगों को लेकर आंदोलन करने जा रहे हैं। बता दें कि सैकड़ों की संख्या में प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में काम कर रहे हैं नर्सिंग स्टाफ अगर हड़ताल करते हैं तो स्वास्थ्य सुविधाओं पर इसका बड़ा असर देखने को मिल सकता है।

नर्सिंग कर्मचारियों का कहना है कि सरकार ने उनकी मांगों को सालों से नहीं पूरा किया है जिसके बाद सभी सरकारी अस्पतालों में 24 जून से काम बंद किया जाएगा । वहीं स्वास्थ्य विभाग अधिकारी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह कौरव ने जानकारी देते हुए बताया की आंदोलन की रूपरेखा तैयार कर ली गई है। कल से काली पट्टी बांधकर नर्सिंग स्टाफ काम करेंगे। इसके बाद 10 जून से विरोध प्रदर्शन होगा।

यह है मांग
इसकी मांग है कि कर्मचारियों का नाम केंद्र और दूसरे राज्यों की तरह नाम परिवर्तित हो। स्टाफ नर्स को नर्सिंग ऑफिसर और नर्सिंग सिस्टर को सीनियर नर्सिंग ऑफिसर की पोस्ट दी जाए। वहीं जिस तरह से चिकित्सा महाविद्यालय और रीवा में डिप्लोमा डिग्री धारी नर्सेज कर्मचारियों को तीन चार विशेष वेतन वृद्धि दी गई है उसी तरह प्रदेश में अन्य चिकित्सा महाविद्यालय में कार्यरत नर्सेज कर्मचारियों को वेतन वृद्धि दी जाए।

यह भी पढ़ें…शशि थरूर ने ट्वीट किया शादी का अनोखा विज्ञापन, दुल्हन को चाहिए वैक्सीनेटेड दूल्हा