मल्लिकार्जुन के बयान के बाद मध्यप्रदेश विधानसभा में भी कुत्ते खड़के

BJP hit back at Congress : कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के ‘कुत्ते’ वाले बयान पर संसद में जमकर हंगामा हुआ। वहीं मध्य प्रदेश विधानसभा में भी कुत्तों का मामला एक फिर गर्माया। इस तरह कांग्रेस ने ‘कुत्ते’ के नाम पर बीजेपी को बैठे बिठाए एक मुद्दा दे दिया है। हालांकि ये दोनों अलग अलग मामले हैं..एक में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बीजेपी से स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बीजेपी के योगदान को लेकर सवाल किया है और दूसरा मामला कमलनाथ सरकार के समय हुए तबादलों से संबंधित है।

मल्लिकार्जुन खड़गे के बयान पर बवाल

बता दें कि राजस्थान के अलवर में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मल्लिकार्जुन खड़गे ने भाषण दिया था और यहीं वो कुछ ऐसा कह गए, जिसपर अब बवाल मचा है। उन्होने कहा कि आजादी की लड़ाई में कांग्रेस नेताओं ने जान लगा दी, लेकिन क्या आपका एक कुत्ता भी देश के लिए मरा था। इस बयान को लेकर बीजेपी तुरंत डिफेंस मोड में आ गई और संसद के शीतलालीन सत्र में ये मुद्दा खूब गूंजा। केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने इस बयान के लिए खड़गे की घोर निंदा करते हुए कहा कि वो कांग्रेस में महज ‘रबर-स्टैंप’ की भूमिका निभा रहे हैं। बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष से माफी मांगने को कहा, लेकिन उन्होने माफी मांगने से इनकार कर दिया।

कुत्तों के तबादले पर नरोत्तम मिश्रा का तंज

इसी तरह मध्य प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भी ‘कुत्तों’ को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस को घेरा। ये मुद्दा था तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा कुत्तों के ट्रांसफर का। इसे लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमनलाथ पर तंज करते हुए कहा कि आपकी सरकार में अधिकारी तो अधिकारी, कुत्तों तक के ट्रांसफर कर दिए गए थे। इस मुद्दे को उठाते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान पलटवार करते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार में कुत्ते तक तबादला उद्योग का शिकार हुए। उन्होने कहा कि ‘कांग्रेस की तत्कालीन तबादला सरकार में 15 महीने में 15 हजार कर्मचारियों और 450 आईएएस के तबादले हुए। लेकिन अधिकारी कर्मचारी क्या, आपने तो कुत्तों तक को नहीं छोड़ा।’ बता दें कि तत्कालीन कमलनाथ सरकार में पुलिस विभाग ने बड़े पैमाने पर खोजी कुत्तों (स्निफर डॉग) के तबादले किए थे।