रेल मंत्री के ट्वीट पर अमृता राय का तंज

ग्वालियर//अतुल सक्सेना । महिला दिवस से पहले रेल मंत्री द्वारा देश के रेलवे स्टेशनों पर काम करती महिलाओं के वायरल वीडियो और फोटो को गर्व की बात बताने पर वरिष्ठ पत्रकार एवं कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता राय ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि किसी की मजबूरी पर गर्व कैसे कर सकते हैं ये उसका मखौल उड़ाना है।

महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित चार दिवसीय बिटिया उत्सव में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने आईं वरिष्ठ पत्रकार एवं कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता राय ने समाज में महिलाओं की स्थिति पर खुलकर अपने विचार रखे।
अमृता राय ने सरकार की योजनाओं में महिलाओं के गलत चित्रण और प्रस्तुतीकरण पर अपनी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में महिलाओं और बच्चियों के प्रोग्राम चलाए जाते हैं। जिसमें लाड़ली लक्ष्मी योजना में बच्ची की पढ़ाई के साथ-साथ इस बात पर जोर दिया जाता है कि इस योजना के तहत जो राशि को मिलेगी वह उसे दहेज के रूप में काम आएगी । जबकि इस योजना में बच्ची की पढ़ाई और उसके पैरों पर खड़ा होने को प्रभावी तरीके से बताना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सरकार चलाने वालों से ये उम्मीद करते हैं कि वो समाज को एक नई दिशा दिखाएंगे लेकिन जब रेल मंत्री सिर पर बोझा ढोती और कुली का काम कर रही महिला के वीडियो पर ट्वीट करते हैं कि ये देश के लिए गर्व की बात है तो मुझे हैरानी होती हैनकि किसी की मजबूरी पर हम गर्व कैसे कर सकते हैं ये उसकी मजबूरी का मखौल उड़ाना है। यदि हमें उस सशक्त करना है तो उस दिखाने के और भी तरीके हैं। गौरतलब है कि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने हाल ही में रेलवे में काम कर रहीं महिलाओं के फोटो वीडियो पर ट्वीट कर उनके काम को सराहा है और से गर्व कहा है। इन वीडियो और फोटो में महिलाएं पॉइंट्स मेन, कुली, सफाईकर्मी, टिकट विंडो क्लर्क, इंजन ड्रायवर, स्टेशन मैनेजर सहित सभी वो काम करती दिखाई दे रही हैं जो कभी पुरुष करते थे। महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए ही रेल मंत्री ने महिला दिवस से पहले ट्वीट कर बधाई दी है।