नाराज नेताओं ने बढ़ाई टेंशन, भाजपा के 18 प्रत्याशियों में से 9 का विरोध

-Angry-leaders-raised-the-tension-opposed-gainst-9-out-of-the-BJP's-18-candidates

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने अभी तक मप्र की 18 लोकसभा सीटों के लिए प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया है। जिनमें से सात मौजूदा सांसदों के टिकट काटे गए हैं। जबकि 9 सीटों पर घोषित प्रत्याशियों के नामों का पार्टी में ही खुलकर विरोध हो रहा है। शेष 11 सीटों में से करीब 5 सीटों पर मौजूदा सांसदों के टिकट काटे जाने की संभावना है। जिनमें भोपाल, विदिशा, इंदौर, ग्वालियर में नए चेहरे को उतारा जाना लगभग तय है। 

भारतीय जनता पार्टी ने पहली सूची में 15 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया था। इसके बाद 29 मार्च को दूसरी सूची में तीन लोकसभा सीट राजगढ़, बालाघाट और खरगोन सीट से प्रत्याशी घोषित किए गए। इनमें से आधी सीटों पर प्रत्याशियों का जमकर विरोध हो रहा है। विरोध करने वालों में दावेदार और पार्टी कार्यकर्ता हैं। नाराज नेताओं को मनाने के लिए पार्टी ने वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी है��� 

इन सीटों पर विरोध 

भाजपा में मुरैना, भिंड, टीकमगढ़, सीधी, बालाघाट, राजगढ़, मंदसौर, खंडवा, शहडोल में प्रत्याशियों का खुलकर विरोध हो रहा है। शहडोल, मंदसौर में भाजपा नेता निर्दलीय चुनाव लडऩे का ऐलान कर चुके हैं। नामांकन प्रक्रिया पूरी होने से पहले भाजपा नाराज नेताओं को मनाने में जुटी है, इसके नामांकन पत्र वापसी तक नेता नहीं मानते हंै तो उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। 

इन सीटों पर काटे टिकट

भाजपा ने पहली सूची में पांच सांसदों के टिकट काटे थे, जबकि दूसरी सूची में दो के टिकट काटे हैं। जिनके टिकट काटे गए हैं उनमें मुरैना से अनूप मिश्रा, भिंड से भागीरथ प्रसाद, बालाघाट से बोध सिंह भगत,  शहडोल से ज्ञान सिंह, बैतूल से ज्योति धुर्वे, उज्जैन से चिंतामणि मालवीय, खरगोन से सुभाष पटेल के नाम शामिल हैं। जबकि शेष 11 सीटों में से 5 सांसदों के टिकट काटे जा सकते हैं। 

नागर ने रोकी साधना की राह

राजगढ़ से सांसद रोडमल नागर का टिकट काटे जाने की अटकलें थी, लेकिन पार्टी ने नागर को फिर से प्रत्याशी बनाया है। ऐसे में विदिशा से टिकट की मांग कर रहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह को टिकट मिलने की संभावना कम है। क्योंकि नागर किरार-धाकड़ समाज से हैं और खुद सामाजिक नेता भी है। साधना सिंह समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। ऐसे में किरार समाज से दो प्रत्याशियों को टिकट मिलने की संभावना कम है।