article-370-Air-Force-and-Army-alert-in-gwalior-Vacation-canceled-of-employees-

 ग्वालियर। कश्मीर में धारा 370 समाप्त करने के बाद हालात को देखते हुए ग्वालियर में वायुसेना और सेना को अलर्ट कर दिया गया है। जानकर सूत्रों के मुताबिक महाराजपुरा स्थित वायुसेना स्टेशन पर तैनात सभी अधिकारियों और कर्मचारियों के अवकाश निरस्त कर दिए गए हैं। वायुसेना स्टेशन पर तैनात मिराज स्क्वाड्रन को हर समय उड़ान के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए गए हैं। 

इसके साथ ही ग्वालियर के मुरार में स्थित सेना मुख्यालय के अधिकारी मथुरा और दिल्ली से संपर्क बनाये हुए हैं। वायुसेना के अधिकारी इलाहाबाद और दिल्ली से सतत संपर्क में हैं। इसके अलावा महाराजपुरा हवाई अड्डे से नियमित उड़ान करने वाली एयर लाइन्स कम्पनियों को भी निर्देशित किया गया है कि आवश्यकता पड़ने पर उड़ाने रद्द की जा सकती हैं इस सम्भावना के लिए वे तैयार रहें। इसके उधर BSF टेकनपुर और नयागांव स्थित CRPF ट्रेनिंग सेंटर के आसपास गश्त बढ़ाने के निर्देश भी दिए गए हैं। इन सबके बीच शहर के वायुसेना और सेना,CRPF और BSF के आसपास के क्षेत्र के लिए पुलिस की निगरानी बढ़ा दी गई है।

सभी राज्यों को जारी की एडवाइजरी, मप्र में पुलिस अलर्ट 

जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद मध्य प्रदेश में पुलिस अलर्ट पर है, इंटेलिजेंस ने पहले ही सभी जिलों के SP को अलर्ट रहने के निर्देश दिये थे| शांति भंग करने वालों पर सख्त कार्रवाई के लिए फ्री हैंड रहेगा|  जिला प्रशासन स्तर पर भी सुरक्षा और कानून व्यवस्था पर नजर रखी जा रही है| पुलिस मुख्यालय की ओर से सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों को दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। प्रदेश में जम्मू-कश्मीर से पढ़ने के लिए आने वाले छात्रों और शॉल-कंबल बेचने वाले व्यापारियों की गतिविधियों पर नजर रखने व उन्हें विशेष सुरक्षा प्रदान करने को कहा गया है। इन छात्रों की संख्या सबसे ज्यादा भोपाल और ग्वालियर में है। वहीं केंद्र सरकार ने भी सभी राज्य सरकारों को एडवाइजरी जारी की है| कई राज्यों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. साथ ही हिंसा को रोकने के लिए पुलिस से मॉक ड्रिल चलाने का निर्देश भी जारी किया गया है| जम्मू-कश्मीर पर आए फैसले के बाद केवल कश्मीर में हाई अलर्ट जारी नहीं किया गया है बल्कि कई राज्यों में हाई अलर्ट जारी किया गया है।केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों को एडवाइजरी जारी कर हाई अलर्ट पर रहने को कहा है। राज्य सरकारों ने सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस को अलर्ट कर दिया है। पुलिस को हिंसा से निपटने के लिए तैयार करने का निर्देश दिया गया है।