पुलवामा हमला: शादी के लिए लड़की देख रहे थे घरवाले और आ गई शहादत की खबर

Ashwani-Kumar-martyrs-of-jabalpur's-MP-in-Pulwama-terror-attack

जबलपुर| जम्मू-कश्मीर के पुलवामा क्षेत्र में आतंकियों के आतंकी हमले में शहीद होने वाले सीआरपीएफ के 42 जवानों में मध्य प्रदेश के जबलपुर का लाल अश्विनी कुमार भी शामिल हैं। शहीद अश्विन कुछ साल पहले ही सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे।सिहोरा का खूडावल गाँव जहा के 90 %युवा सेना में भर्ती है और देश की सेवा करने का भाव बचपन से ही खुडावल गाँव के युवाओं में रहता है। शहीद अश्विन को भी सेना में जाकर देश की सेवा करने का जज़्बा था |

पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ की 35 बटालियन में पदस्थ अश्वनी कुमार काछी की शहीद होने की खबर जैसे ही गाँव मे पहुँची वैसे ही पूरे गाँव सहित जबलपुर में शोक की लहर दौड़ गई। सुकरू काछी ने बेटे की शहादत की खबर सुनने के बाद भी अपना हौसला बनाए रखा। उन्होंने पत्नी कौशल्या और बेटों को अश्वनी के शहीद होने की खबर दी। फिर खुद को सम्भालते हुए परिवार का हौसला भी बढ़ाने लगे। इस कायराना हमले को लेकर परिवार सहित पूरा गांव आक्रोशित है। पुलवामा में शहीद अश्वनी सुकरू की पांच संतानों में अश्वनी सबसे छोटे थे। उनसे बड़े सुमंत, अनिल, अवधेश और बेटी ललिता हैं। अश्विन अविवाहित था और उनके विवाह की बात चल रही थी।अश्विन आखिरी बार नवरात्रि में आए थे।

शहीद के परिवार को एक करोड़ देगी सरकार 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। राज्य सरकार की तरफ से शहीद के परिवार को एक करोड़ रुपए की आर्थिक मदद, एक आवास और परिवार के एक सदस्य को शासकीय नौकरी दी जाएगी। वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने ट्वीट कर शहीद को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा कि कायराना आतंकी हमले में जबलपुर जिले के सपूत अश्विनी कुमार कांछी भी शहीद हुए हैं। भारत माता के लिए उनके सर्वोच्च बलिदान को हम कभी नहीं भुला सकेंगे। उन्होंने लिखा कि उमीद है आपके खून का बदला लिया जाएगा। हमे गर्व है जबलपुर की माटी पर आप जैसे वीर पुरुष ने जन्म लिया।

गौतलब है कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा ज़िले में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर लेथपोरा के पास चरमपंथियों ने आईईडी धमाका कर सीआरपीएफ़ के काफिले को निशाना बनाया. इस हमले में 40 से अधिक जवान मारे गए और कई घायल हैं| मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है| गुरुवार जम्मू से श्रीनगर के लिए जवानों का काफिला रवाना हुआ था । 60 वाहनों में श्रीनगर जा रहे थे 2547 जवान। सभी छुट्टी मनाकर लौट रहे थे। दोपहर 3.15 बजे जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर हमला किया गया ।  आतंकियों ने विस्फोटकों से लदी एक कार में को हाईवे पर सीआरपीएफ की बस से टक्कर मारी। इसके बाद कार में हुए भयावह धमाके से बस व उसके पीछे आ रहे एक वाहन के परखच्चे उड़ गए। जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर गोरीपोरा में आतंकी ने 320 किलो विस्फोटक से भरी कार सीआरपीएफ काफिले के साथ टकराकर उड़ाई।  जैश-ए-मोहम्मद के प्रवक्ता मोहम्मद हसन ने एक बयान जारी कर कहा है कि आदिल अहमद उर्फ़ वक़ास कमांडो ने इस हमले को अंजाम दिया है. वक़ास कमांडो को पुलवामा ज़िले का नागरिक बताया जा रहा है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here