MP में शांति-पुलिस अलर्ट, कई क्षेत्रों में इंटरनेट बंद, पल पल की अपडेट लेते रहे सीएम

भोपाल। अयोध्या मामले में फैसले के बाद मध्यप्रदेश में शांति का माहौल है। अब तक कहीं कोई बड़ी घटना सामने नहीं आई है| शनिवार से ही  पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है, वहीं रविवार सुबह भी सभी शहरों के संवेदशील इलाकों में पुलिस की गश्त जारी रही। शनिवार को सूने रहे बाजारों में रविवार को रौनक लौट आई दुकानों पर लोगों का आना शुरू हो गया है। हालाकि पुलिस और प्रशासन का अमला पूरे राज्य में स्थिति पर नजर बनाए हुए है। वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ भी पल पल की जानकारी से अपडेट रहे| 

पुलिस मुख्यालय में प्रदेश भर की जानकारी लगातार अपडेट हो रही है| प्रदेश में आज मिलाद उन नबी का त्यौहार भी शांतिपूर्वक मनाया जा रहा है| प्रदेश भर में शांति का माहौल है| हालाँकि एहतियातन बुंदेलखंड के तीन जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है| राजधानी भोपाल में आज सुबह से कल की तुलना में सड़कों पर लोगों की आवाजाही बढ़ गयी और स्थिति सामान्य होने की ओर बढ़ रही है। शहर के बाहरी इलाकों में स्थिति लगभग सामान्य सी हो गयी है। चाय-नाश्ते की दुकानों पर भीड़ है। इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में भी सुबह से ही बाजार में चहल-पहल शुरू हो गई थी। इंदौर शहर में प्रमुख स्थानों पर पुलिस का सख्त पहरा अभी भी बना हुआ है। जगह-जगह पुलिस की गाड़ियां घूम रही हैं। 

दिल्ली से लौटते ही सीएम ने संभाली कमान, हर घंटे ले रहे अपडेट

अयोध्या फैसले के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश भर में कानून-व्यवस्था की कमान खुद संभाल ली। शनिवार को उन्होंने पुलिस मुख्यालय पहुंचकर  राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष से स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद अफसरों से लगातार संकर्प में रहे। रात भर फीडबैक लेते रहे। आज सुबह पुलिस एवं गृह विभाग के अफसरों के साथ उन्होंने कानून-व्यवस्था का लेकर बैठक ली। 

मैदानी अफसरों से की चर्चा, सभी कार्यक्रम निरस्त 

मुख्यमंत्री ने मैदानी अफसरों से भी चर्चा की। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भी काननू-व्यवस्था को लेकर दूरभाष पर चर्चा की और स्थिति से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि मैदानी अमल अलर्ट रहे। शांति व्यवस्था बिगाडऩे वालों से सख्ती से पेश आएं।  मुख्यमंत्री कमलनाथ 9 नवंबर को दिल्ली से लौटे थे, उन्होंने सभी कार्यक्रम निरस्त कर दिए हैं। आज भी उन्होंने किसी तरह का कार्यक्रम नहीं रखा है। हालांकि कानून-व्यवस्था को लेकर अफसरों से अलग-अलग बैठक की। दूरभाष पर भी अफसरों से चर्चा करते रहे। 

भड़काऊ पोस्ट पर गिरफ्तारियां, इन जिलों में इंटरनेट बंद 

पुलिस द्वारा सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक और भड़काऊ पोस्ट करने पर कुछ लोगों की गिरफ्तारियां हुई हैं| वहीं प्रशासन के प्रतिबन्ध के बावजूद आतिशबाजी करने वाले भी कुछ गिरफ्तार हुए हैं| शनिवार रात को बुंदेलखंड के तीन जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई हैं| दमोह, पन्ना और छतरपुर के कलेक्टरों ने इंटरनेट सेवा बन करने का सुझाव दिया| हालाँकि तीनों जिलों में कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हुई, एहतियातन यहां इंटरनेट बंद करने का फैसला लिया गया है|