-Before-the-election

भोपाल| लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही अधिकारी राजनीतिक दलों के निशाने पर आ गए हैं| अब तक विपक्ष में रहते हुए कांग्रेस अधिकारियों के सत्ता पक्ष में काम करने के आरोप लगाकर चुनाव आयोग पहुँचती थी| लेकिन अब 15 साल बाद विपक्ष में आई भाजपा भी उसी राह पर अधिकारियों को टारगेट कर रही है| गुना में पूर्व विधायक ममता मीणा ने एसपी कलेक्टर पर पक्षपात के आरोप लगाए हैं, वहीं जबलपुर एसपी के कांग्रेस सरकार के मंत्री के साथ डांस करते हुए वीडियो वायरल होने के बाद भाजपा चुनाव आयोग में शिकायत करने जा रही है| इसके साथ ही ग्वालियर में बीजेपी दफ्तार को देर रात खाली कराने की कार्रवाई से भी पार्टी नाराज है और इस सम्बन्ध में चुनाव आयोग को शिकायत की जायेगी| दूसरी ओर प्रदेश के छह संसदीय क्षेत्रों के 15 जिलों के कलेक्टर भाजपा के निशाने पर है| 

भाजपा ने चुनाव से कहा है कि इनकी पदस्थापना आचार संहिता लागू होने से कुछ ही समय पहले हुई है, इसलिए आयोग इनकी पदस्थापना ओर अन्य गतिविधियों की जांच निष्पक्ष चुनाव के लिए कराये| जिन संसदीय क्षेत्र के कलेक्टरों को निशाने पर लिया है, उनमे ग्वालियर, गुना, जबलपुर, मंडला, राजगढ़, रतलाम, शामिल हैं| इन संसदीय क्षेत्रों में आने वाले जिलों में कलेक्टर जबलपुर छवि भारद्वाज, ग्वालियर अनुराग चौधरी, शिवपुरी अनुग्रह पी, दतिया आरपीस जादोन, गुना भाष्कर लक्षकार, अशोकनगर मंजू शर्मा, सिवनी प्रवीण सिंह अध्यक, मंडला जगदीश चंद्र जातीय, नरसिंहपुर दीपक सक्सेना, डिंडोरी सुरभि गुप्ता, राजगढ़ निधि निवेदिता, आगरमालवा अजय गुप्ता, अलीराजपुर शमीमुद्दीन, झाबुआ प्रबल सिपाहा, रतलाम रुचिका चौहान पदस्थ हैं| इसके अलावा भाजपा ने चुनाव आयोग से इन क्षेत्रों में जांच कर सीनियर अधिकारियों की पोस्टिंग की मांग की है|