अग्निपथ योजना को लेकर आज भारत भारत बंद का आह्वान, मध्य प्रदेश सहित देश के बड़े शहरों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

अग्निपथ योजना के खिलाफ पिछले पांच दिनों से देश में हिंसक प्रदर्शन हो रहे है। अभ्यर्थियों ने योजना को वापस लेने के लिए सरकार पर दवाब बनाना शुरू कर दिया है, लेकिन केंद्र रविवार को यह साफ़ कर चुका है कि वह योजना को किसी भी कीमत पर वापस नहीं लेगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देश में सेना में भर्ती को लेकर लाई गई विवादित अग्निपथ योजना के खिलाफ आज भारत बंद का आह्वान किया गया है। इसके मद्देनजर देश की राजधानी दिल्ली सहित कई बड़े शहरों में कड़े बंदोबस्त किए गए है। अग्निपथ को वापस लेने के लिए युवाओं ने सड़क पर जमकर उत्पात मचाया है।

भोपाल के चप्पे-चप्पे पर नजर

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में किसी भी अनहोनी से बचने के लिए पांच रेलवे स्टेशन और चार बस स्टैंड के बाहर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात है। उपद्रव करने वालों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाएगी। इस के अलावा शहर के थानों को भी अलर्ट किया गया है।

पुलिस कमिश्नर मकरंद देऊस्कर ने कहा है कि भारत बंद के मद्देनजर रानी कमलापति रेलवे स्टेशन, भोपाल रेलवे स्टेशन, मिसरोद रेलवे स्टेशन, निशातपुरा रेलवे स्टेशन और बैरागढ़ रेलवे स्टेशन के बाहर पुलिस का कड़ा पहरा लगाया गया है। आईएसबीटी, नादरा बस स्टैंड, हलालपुर बस स्टैंड और बैरसिया बस स्टैंड पुतली घर पर भी पुलिस बल तैनात रहेगा। पुलिस की नजर भीड़ पर होगी। भीड़ को स्टेशन और बस स्टैंड में अंदर घुसने से रोका जाएगा।

ये भी पढ़े … नामांकन पत्रों की संवीक्षा आज, 22 जून तक नाम वापसी, बी-फार्म जरूरी

भोपाल के अलावा ग्वालियर भी उच्च निगरानी में रखा गया है क्योंकि प्रदेश में योजना के खिलाफ सबसे पहले आवाज इसी शहर से उठनी शुरू हुई थी। शहर के रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, गोला का मंदिर सहित सभी चेकिंग पॉइंट पर निगरानी के लिए लगभग 300 का अतिरिक्त बल तैनात किया गया है। दिल्ली की और जाने वाली ट्रेन व बसों पर रविवार की रात से ही पुलिस निगरानी कर रही है। शहर के एसएसपी अमित सांघी ने कहा कि किसी भी विरोधी को दिल्ली नहीं जाने देंगे और गड़बड़ी नहीं फैलाने देंगे।

आपको बता दे, अग्निपथ योजना के खिलाफ पिछले पांच दिनों से देश में हिंसक प्रदर्शन हो रहे है। अभ्यर्थियों ने योजना को वापस लेने के लिए सरकार पर दवाब बनाना शुरू कर दिया है, लेकिन केंद्र रविवार को यह साफ़ कर चुका है कि वह योजना को किसी भी कीमत पर वापस नहीं लेगा। इससे पहले उपद्रवियों ने सड़क पर जमकर उत्पात मचाया था, जहां उन्होंने कई ट्रेनों सहित देश की सार्वजानिक संपत्ति को आग के हवाले किया था।