भोपाल नही पहले दिल्ली जाएंगे बागी विधायक, सिंधिया से करेंगे मुलाकात

भोपाल।प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर गई लेकिन अबतक बागी 22 विधायक भोपाल नही पहुंचे है।सबके मन में एक ही सवाल है कि इस्तीफा होने के बाद भी आखिर वे बागी विधायक अबतक भोपाल क्यो नही लौटे है और आखिर तक लौटेंगे।इसी बीच खबर मिल रही है कि करीब दो हफ्तों से बैंगलुरु में डेरा डाले हुए सिंधिया समर्थक बागी विधायक अभी भोपाल नही आएंगे। पहले वे बैंगलुरु से सीधे दिल्ली जाएंगे, वहां ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात करेंगें इसके बाद उनके भोपाल लाने की रणनीति बनाई जाएगी।

सुत्रों की माने तो प्रदेश में गहमागहमी का माहौल है, जिसके चलते विधायकों को भोपाल लाने में देरी हो रही है।चुंकी सरकार गिराने में इन 22 बागियों की अहम भूमिका रही।ऐसे में सिंधिया और बीजेपी जल्दबाजी में इन्हें भोपाल लाकर कोई गलती नही करना चाहती ।इसी के चलते इन्हें पहले दिल्ली बुलाया जा रहा है। यहां बीजेपी नेता भी इनसे मुलाकात कर सकते है। सिंधिया उनके साथ आगे की रणनीति को लेकर चर्चा कर सकते है।वही उपचुनाव को लेकर चर्चा की जा सकती है।माना जा रहा है कि जबतक बीजेपी राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा नही करती तबतक उन्हें भोपाल से दूर रखा जाएगा, ताकी कोई उनसे संपर्क ना कर सके।उम्मीद की जा रही है कि सोमवार-मंगलवार को विधायक दल के बैठक के बाद मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान हो जाएगा और उसके बाद 25 मार्च तक बीजेपी राज्यपाल के सामने दावा पेश कर सकती है।

26 मार्च को शपथ ले सकता है नया मंत्रिमंडल

मध्य प्रदेश सरकार का नया मंत्रिमंडल 26 मार्च को शपथ ले सकता है सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि प्रशासन को इस बात की तैयारी के निर्देश दिए गए। संभवत मंगलवार की शाम बीजेपी विधायक दल की बैठक होगी और विधायक दल की बैठक में नए नेता का चुनाव हो जाएगा बीजेपी की ओर से इस दौड़ में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा शामिल है

बता दें कि जैसे ही सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया वैसे ही गुरूवार देर रात मध्यप्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रम में एक बड़े उलटफेर के चलते स्पीकर एन पी प्रजापति ने सोलह विधायकों के इस्तीफे स्वीकार कर लिये हैं। ये वही कांग्रेस के बागी विधायक हैं जो पिछले सोलह दिनों से बेंगलुरू में डेरा डाले हुए हैं। इनमें सुरेश धाकड़, रक्षा संतराम सरोनिया, जजपाल सिंह जज्जी, विजेंद्र सिंह, रघुराज कंसाना, ओपीएस भदौरिया, मुन्नालाल गोयल, गिर्राज दंडोतिया, कमलेश जाटव, रणवीर सिंह जाटव, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, हरदीप सिंह डंग और मनोज चौधरी ,एन्दल सिह कंसाना, बिसाहू लाल सिंह शामिल हैं।