अब नहीं मिलेगा सरकारी अस्पताल में मुफ्त इलाज, लागू होगा फीस सिस्टम

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के दो सबसे बड़े सरकारी अस्पतालों में अब मुफ्त इलाज नहीं मिलेगा। सरकारी मेडिकल कलेजों से संबद्ध हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में मरीजों से सरकार निशुल्क सुविधा छीनने जा रही है। यही नहीं मरीजों को आने वाले दिनों में अब जांच, इलाज, ओपीडी और आईपीडी के लिए ज्यादा फीस अदा करनी होगी। इसके लिए जीएमसी डीन ने अस्पताल अधीक्षक से बढ़ोत्तरी के प्रस्ताव मांगे हैं। 

कमलनाथ सरकार ने हाल ही में ‘राइट टू हेल्थ’ पॉलिसी लागू की है। लेकिन सरकारी अस्पताल में इस तरह के कदम से अब सरकार की इस पाॉलिसी और नियत पर सवाल उठ रहे हैं। प्रदेश के लाखों मरीजों का यहां इलाज होता। अगर फीस में बढ़ोत्तरी की जाती है तो कई गरीब तबके के लोगों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। साथ ही सरकार की पॉलिसी पर भी सवाल खड़े होंगे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन दफ्तर के अफसरों ने बताया कि हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में जांच और इलाज के लिए फीस जल्द लागू की जाएगी। 

इस फैसले से हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में नया ट्रीटमेंट और इन्वेस्टीगेशन फीस चार्ट लागू होने के बाद आर्थिक रूप से कमजोर और सामान्य मरीजों को निशुल्क इलाज नहीं मिलेगा। दोनों की श्रेणियों के मरीजों को ओपडी में रिस्ट्रेशन कराने से लेकर पैथोलॉजी, रेजियोंलॉजी समेत दूसरी सभी जांचों के लिए फीस चुकानी होगी।